विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
October 6, 2022

25 से अधिक शिकायतों के बाद खुली खाद्य विभाग की नींद स्टॉक से कम पाया गया अनाज

कबीर मिशन समाचार/देवास,

जिला ब्यूरो चिफ़,

पवन परमार जिला देवास,

सोनकच्छ। तहसील के ग्राम घट्टिया भाना में गुरुवार को खाद्य विभाग की टीम ने कही राशन मूल्य की दुकान पर कार्यवाही करते हुए पंचनामा बनाया। जिसमे स्टॉक से कम अनाज निकला यहां तक के नमक की भी स्टॉक में कम पाया गया। आगामी कार्यवाही के लिए जांच एसडीएम को सौपी गई। तहसील मुख्यालय से 4 किमी. दूर ग्राम घट्टिया भाना में विगत 4 माह से ग्रामीण सीएम हेल्पलाईन, आवेदन के माध्यम से शासकीय राशन से राशन नही मिलने की बात को लेकर शिकायत करते आ रहे है।

हद तो तब हो गई कि पिछले 2 माह से महीने में मिलने वाला राशन सहित निःशुल्क प्रधानमंत्री राशन योजना के अंतर्गत मिलने वाला राशन भी नही मिला। ग्रामीणों के मुताबिक 25 से अधिक शिकायत सीएम हेल्पलाईन में और तहसील व जिला अधिकारियों को आवेदन देकर अवगत करवाया जा चुका है। लेकिन विगत कई माह से कोई भी अधिकारी शिकायतों पर ध्यान ना देते हुए सीधे गरीबों के अधिकारों का शोषण कर रहे है। शिकायतों के बाद जिला खाद्य अधिकारी सहित तहसील के अधिकारी नींद से जागते हुए कार्यवाही के लिए ग्राम घट्टिया भाना पहुँचे। जांच में पाया गया कि रजिस्टर में स्टॉक के हिसाब से वास्तविक स्टॉक कम पाया गया। 36 क्विंटल गेंहू, 91 क्विंटल चावल व एक नमक की कट्टी अगस्त माह तक के स्टॉक में कम पाया गया है। जिसका पंचनामा बनाकर एसडीएम को आगे की कार्यवाही के दिया है।

नियमानुसार नही होता निरीक्षण- जब कार्यवाही को लेकर कनिष्ठ खाद्य अधिकारी धर्मेंद्र वर्मा से पूछा गया कि राशन की दुकान के स्टॉक की जांच व निरीक्षण कितने माह के अंतराल में हो जाना चाहिए उनके द्वारा बताया गया कि तीन माह में होना चाहिए, जबकि इस बात को उन्होंने खुद कबूला की कई माह से इस राशन की दुकान की जांच नही की गई, जिससे मेघनाथ स्वयं सहायता समूह के दुकानदार मनमानी करते नजर नही आए। जांच ना करने का कारण हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि मेरे पास टोंकखुर्द का भी प्रभार है इस कारण से मै जांच नही कर पाया।

ग्रामीणो ने अधिकारियों से किए सवाल- कार्यवाही के दौरान भारी संख्या में ग्रामीण भी मौके पर पहुँचे, खाद्य विभाग के अधिकारियों को देर से हुई कार्यवाही को लेकर सवाल किए, जिसका कि संतुष्टिपूर्वक जवाब अधिकारी नही दे पाए, साथ ही अगस्त के पहले अंगूठा लगाकर राशन निकालने की शिकायत पर पोर्टल का हवाला देते हुए बात खत्म करते नजर आए।पूर्व सरपंच सहित अन्य व्यक्ति कर रहे थे नियमो के विरुद्ध संचालन- मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कनिष्ठ खाद्य अधिकारी धर्मेंद्र वर्मा ने बताया कि दुकान संचालक खुशबू वर्मा सहायक संचालक रितेश प्रजापति के द्वारा नही किया जा रहा है, जबकि वितरण में अनियमितता करते हुए पूर्व सरपंच देवप्रसाद विश्वकर्मा व एक अन्य सहयोगी वितरण कर रहा है जो कि नियम के अनुसार गलत है, कार्यवाही के अंतर्गत इनका नाम भी डाला जाएगा।

इसके साथ ही फिंगर प्रिंट स्कैनर भी मौके पर मौजूद नही था जबकि 10 तारिक तक राशन बाँटा जाना था, जिसके बारे में 10 बार पूछने पर उपस्थित सहायक संचालक रितेश ना तो जवाब दे पाया और ना ही स्कैनर बुला पाया अधिकारियों ने शाम तक लाकर राशन बाटने की हिदायद दी है, जबकि ग्रामीणों के अनुसार पहले भी ऐसा कई बार हुआ है। कारवाही करते हुए टीम ने पंचनामा बनाया है, आगे की जांच एसडीएम कार्यालय से की जाएगी। नियमनुसार जांच नही कर पाए क्योंकि मेरे पास अन्य तहसील का भी प्रभार है। राशन वितरण करने में भी अनियमितता पाई गई है, साथ ही स्टॉक में भी अंतर पाया गया है। संचालक खुशबू वर्मा सहायक संचालक रितेश प्रजापति द्वारा राशन वितरण ना करते हुए देवप्रसाद विश्वकर्मा व ब्रजेश प्रजापति के द्वारा संचालन किया जा रहा है, जिनका नाम भी अभी जोड़ा जाएगा।