रतलाम

आलोट। संत शिरोमणि श्री रविदास समरसता यात्रा के दौरान जन संवाद कार्यक्रम आयोजित किया

आलोट। संत शिरोमणि श्री रविदास समरसता यात्रा के दौरान जन संवाद कार्यक्रम आयोजित किया

रतलाम ।कबीर मिशन तहसील संवाददाता विनोद सोलंकी

आलोट। राज्य शासन द्वारा आयोजित की जा रही संत शिरोमणि श्री रविदास समरसता यात्रा 28 जुलाई को जिले के आलोट में पहुंची। मंडी प्रांगण में यात्रा के दौरान जनसंवाद कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस अवसर पर उपस्थितगणों एवं जनप्रतिनिधियों ने संत श्री रविदास के जीवन संदेश का प्रसार करते हुए कहा कि संत श्री रविदास ने अपनी महानता के साथ समाज को समरसता का वैचारिक संदेश दिया है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान संत के संदेश को धारण कर उनके पदचिन्हों का अनुसरण कर जनता की सेवा कर रहे हैं। जनसंवाद आयोजन में खाचरोद से आए बगलामुखी टेस्ट के चेयरमैन पीठाधीश श्री कृष्णानंदजी महाराज ने संत रविदास के जीवन दर्शन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमारे देश में सर्वसमभाव का दर्शन है, संत रविदास ने भी सभी के लिए समरसता का संदेश दिया है।

हमें चाहिए कि हम संत के दर्शन पर चलते हुए अपने जीवन को सार्थक करें। अपने संबोधन में योगाचार्य महंत एवं उत्तीष्ठ भारत के संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सुधाकर पूरी महाराज ने संत श्री रविदासजी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मन की निर्मलता आवश्यक है। रविदासजी ने ही कहा था कि मन चंगा तो कठौती में गंगा है। राष्ट्रीय संस्कार ऋषि श्री दिनेश व्यास महाराज ने कहा कि संत रविदासजी ने समाज सुधारक का कार्य करते हुए समाज एवं सभी के लिए सर्वश्रेष्ठ योगदान दिया है। जिला भाजपा अध्यक्ष श्री राजेंद्र सिंह लुनेरा ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा समरसता की 5 यात्राएं प्रारंभ की गई। यात्राएं अलग-अलग जिलों से प्रारंभ होकर आगामी 12 अगस्त को सागर में पहुंचेगी जहां प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 102 करोड रुपए की लागत से बनने वाले संत शिरोमणि श्री रविदासजी के मंदिर की आधारशिला रखेंगे।

इस मंदिर के निर्माण में पवित्र नदियों का जल एवं मिट्टी एकत्र कर लगाई जा रही है ताकि सभी समाजों में समरसता का भाव रहे। हमारे क्षेत्र से भी जल एवं मिट्टी यात्रा के माध्यम से जा रही है जो हमारे लिए गौरव की बात है। श्री लुनेरा ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आमजन की भावनाओं के अनुरूप संतश्री का सागर में मंदिर बनाने का निर्णय लिया है। पूर्व विधायक श्री जितेंद्र गहलोत ने कहा कि संत रविदास ने सदैव सर्वहारा वर्ग की चिंता की है। हमारे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भी संत के पद चिन्हों का अनुसरण करते हुए जनता की सेवा कर रहे हैं। समरसता यात्रा संत रविदास के संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के लिए आयोजित की जा रही है, यह अभूतपूर्व यात्रा है। पूर्व में इस प्रकार की समरसता यात्राएं कभी आयोजित नहीं हुई।

संवाद कार्यक्रम में अपर कलेक्टर डॉ. शालिनी श्रीवास्तव एसडीएम श्री सुनील जयसवाल जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री आर.के. वक्तारिया श्री रमेश मालवीय श्री बलवंत भाटी श्री अभिषेक बंटी पितलिया श्री ओपेंद्रसिंह श्री नंदन जैन श्री रामसिंह सिसोदिया श्री बद्रीलाल परिहार श्री कालूसिंह परिहार स्थानीय मालवीय समाज के श्री बद्रीलाल मालवीय श्री ओम बारिया श्री मुकेश दशोरा श्री तूफान सिंह आदि उपस्थित थे। संवाद आयोजन के प्रारंभ में संतश्री रविदासजी के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। सभी अतिथियों का स्वागत जन अभियान परिषद द्वारा किया गया संत श्री रविदासजी के रथ के साथ महिलाएं कलश लेकर चली साथ साथ ही सूर्यवंशी समाज ने बारिश के बाद भी कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर सहयोग किया यात्रा में आए यात्रा में डीजे बैंड बग्गी आदि व्यवस्था की गई रथ एवं चरण पादुका का पूजन किया गया अपने अपने गांव की मिट्टी एवं शिप्रा चंबल संगम का जल चढ़ाया गया यात्रा का शिप्रा किनारे आरती एवं पवित्र नदी एवं शिप्रा चंबल संगम काजल एवं पवित्र स्थान की मिट्टी रथ यात्रा को समर्पित की गई

यात्रा में जिला समन्वयक रत्नेश जी विजयवर्गीय ब्लॉक समन्वयक मुकेश जी कटारिया महावीर जी बैरागी परामर्शदाता हेमेंद्र सिंह निगम नरेंद्र जी पांचाल ऋषिकांत सिंह पवार अमित जी रामावत, संदीप जी सांखला नवांकुर संस्था अध्यक्ष किशोर सिंह जी डोडिया अमर सिंह झाला लाल सिंह पवार महेंद्र सिंह डोडिया प्रस्फुटन समिति से दुर्गाशंकर बाजपुर नंदलाल चौहान सौरभ शर्मा जितेंद्र सूर्यवंशी ओम प्रकाश टेलर कन्हैयालाल पाटीदार जितेंद्र निंबोला राजू टेलर जितेंद्र सिंह सोलंकी रणजीत सिंह मदन सिंह जी कालू सिंह जी सोलंकी नागेश जी सेन ने अपने अपने गांव से मिट्टी एवं जल समर्पण किया यात्रा मार्ग में यात्रा का कई धार्मिक सामाजिक व राजनीतिक संगठन ने स्वागत किया प्रशासनिक अधिकारी एवं एवं धार्मिक संगठनों ने संगठनों ने सहयोग किया कार्यक्रम का संचालन अनिल जी भराव ने किया एवं आभार जिला समन्वयक रत्नेश जी विजयवर्गीय ने माना

About The Author

Related posts