बाबा साहब डॉ अम्बेडकर मिशनरी गायक एस. एस. सूरवंशी सभी का मन मोह लेते हैं: “समाज सेवा ही उनका ध्येय है”


मूलचन्द मेधोनिया पत्रकार भोपाल मोबाइल 8878054839


भोपाल । समाज सेवा जैसे महान कार्य को दिन रात महत्व देना। अपनी लगन, निष्ठा से जन जन में अनूठी पहचान बनाने वाले अनुसूचित जाति जिला टीकमगढ़ ग्राम बड़ा लिघोरा खास विधानसभा क्षेत्र जतारा क्रमांक 44 के जनप्रिय समाजसेवी है। जो कि हर समस्या के समाधान के लिए संघर्ष कर नागरिकों के अति प्रिय जाने जाते हैं।


श्री सूरवंशी जी में विभिन्न कला कौशलता है। वह बाबा साहब डॉ अम्बेडकर जी, सतगुरु रविदास महाराज जी, और अनेक महापुरुषों पर गीत, भजन व राग गाकर सभी का दिल जीत लेते हैं। सूर्यवंशी जी अखिल भारतीय अम्बेडकर विचार मंच, भारतीय रविदास फाऊंडेशन, नशामुक्ति मिशन, दलित समाज कल्याण संस्था, अहिरवार समाज संघ एवं अनुसूचित जाति /जनजाति अधिकारी कर्मचारी संघ इत्यादि संगठनों के सम्मानित पदाधिकारीगण भी है। जिनकू माध्यम सेवाएं प्रदान कर भोपाल की सर जमी पर जन जन के दिल में स्थान है। श्री सूरवंशी जी सामाजिक आयोजनों और कार्यक्रमों में अपनी शानदार गीत प्रस्तुति देकर सभी का मन मोह लेते हैं। श्री एस. एस. सूरवंशी जी ने ग्वालियर में आयोजित संभागीय अनुसूचित जाति सम्मेलन में अपनी अनोखी प्रस्तुत दी तो अभी हाल ही में भोपाल में आयोजित सम्मान कार्यक्रम में इन्होंने सुर ताल वाद्य यंत्र के साथ बहुत ही सराहनीय प्रस्तुतियां दी। जिसकी सर्वत्र प्रशंसा की जा रही है। इनके गीतों में जन जागरण, समाज हित व मजदूरों की समस्याएं सहित विभिन्न मुद्दों के साथ ही इन वर्गों की पीड़ा के भाव होते हैं।


श्री सूरवंशी जी की सेवा भाव उनके पैतृक संस्कार में ही समाहित है। सन 19 48 में सूरवंशी जी के पिता स्वर्गीय श्री हीरालाल सूरवंशी जी “विधायक” रहे। जो कि स्वतंत्रता संग्राम आन्दोलन में सम्मिलित रहे। उन्होंने अपने कार्यकाल में सामाजिक सेवाएं दी विशेष तौर पर अनुसुचित जाति जनजाति वर्ग के हितों की रक्षा के लिए निरंतर काम किये। परिणामस्वरूप आज एस. एस. सूरवंशी जी अपनी दिल से सेवा प्रदान कर रहे हैं। ऐसे महान सक्रियता से काम करने वाले व्यक्तित्व को जन सेवा का शासन में भी अवसर मिलना चाहिए। ताकि समाज के प्रति हर वर्ग व हर धर्म के लोगों में समन्वय स्थापित कर जनता की सेवा भाव कर सकें। श्री सूरवंशी जी के उज्जवल भविष्य की कामना की जाती है।