भोपाल। अपनी संस्कृति, परम्परा, जीवन मूल्य और आतिथ्य सत्कार से इंदौर दुनिया का दिल जीतेगा।

इंदौर दुनिया के सपनों का शहर बना – मुख्यमंत्री श्री चौहान।

प्रवासी भारतीय दिवस एवं ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में इन्दौर की जनभागीदारी के संबंध में संवाद कार्यक्रम संपन्न।


भोपाल। अपनी संस्कृति, परम्परा, जीवन मूल्य और आतिथ्य सत्कार से इंदौर दुनिया का दिल जीतेगा। इंदौर दुनिया के सपनों का शहर बना – मुख्यमंत्री श्री चौहान। प्रवासी भारतीय दिवस एवं ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में इन्दौर की जनभागीदारी के संबंध में संवाद कार्यक्रम संपन्न। ——- इंदौर में अगले जनवरी माह में होने वाले प्रवासी भारतीय सम्मेलन और इन्वेस्टर्स समिट को लेकर व्यापक स्तर पर तैयारियां जारी है। इन्हीं तैयारियों के संबंध में आज यहां मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर के गणमान्य तथा प्रबुद्ध नागरिकों,व्यापारिक, औद्योगिक, धार्मिक तथा सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों से आयोजन को भव्य और यादगार बनाने के बारे में चर्चा की। उन्होंने सभी से कहा कि यह इंदौर ही नहीं बल्कि पूरे मध्यप्रदेश के लिए एक गौरवशाली आयोजन है और इसमें आप सब सक्रिय रूप से सहभागी बने।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इंदौर में होने वाले आयोजनों की जानकारी देते हुए बताया कि यहां चार महत्वपूर्ण कार्यक्रम होंगे। इनमें प्रवासी भारतीय सम्मेलन, इन्वेस्टर्स समिट, जी-20 की बैठकें और खेलों इंडिया जैसे महत्वपूर्ण आयोजन शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इंदौर को मेहमान नवाजी का बेहतर अवसर मिला है। इस दुर्लभ अवसर को वह चुके नहीं और व्यवस्थाओं और स्वागत-सत्कार से अतिथियों के दिलों में ऐसी यादगार छाप छोड़ें, जिसे वे कभी नहीं भूल पायें। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि इंदौर दुनिया का दिल जीतेगा। श्री चौहान ने कहा कि इंदौर अब सिर्फ मेरे ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के सपनों का शहर है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भी इण्डोनेशिया में देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में आने का न्यौता दिया।

श्री चौहान ने कहा कि विश्व में देश का नाम बढ़ाने वाले अतिथि इंदौर में आ रहे हैं। हमारा फर्ज बनता है कि हम उनके स्वागत-सत्कार में कोई कमी नहीं रखें। मेहमान जो हमारा होता है, वह जान से प्यारा होता है। अतिथि देवो भव:, हमारी परम्परा है। इस परम्परा के अनुरूप आयोजन को अविस्मरणीय बनायें। उन्होंने इंदौर के लोगों से कहा कि यह आपका अपना आयोजन है, इसमें सक्रिय रूप से भागीदार बनें और दुनिया को इंदौर की संस्कृति, जीवन मूल्य और परम्परा का बेहतर उदाहरण दिखायें। उन्होंने कहा कि प्रशासन, आयोजन से जुड़े विभिन्न संगठन, संस्थाएं हर सप्ताह अपने-अपने स्तरों पर तैयारियों की समीक्षा करें। उन्होंने आग्रह किया कि अतिथियों को ग्रामीण परिवेश का अनुभव भी करायें। उन्होंने इंदौर में अतिथियों को घरों में ठहराने की पहल का स्वागत किया और कहा कि यह एक अभिनव पहल है। दुनिया के सामने इसके माध्यम से इंदौर एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करेगा। इस अवसर पर विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने उनके द्वारा की जाने वाली व्यवस्थाओं की जानकारी दी। उन्होंने आयोजन को भव्य और यादगार बनाने के लिये महत्वपूर्ण सुझाव भी दिये।

सुझाव देने वालों में होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री सुमित सुरी, 56 दुकान एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री गुंजन शर्मा, सराफा एसोसिएशन के श्री अविनाश शास्त्री, इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन के श्री योगेश मेहता, खजराना गणेश मंदिर के श्री अशोक भट्ट, जायसवाल समाज के अध्यक्ष श्री किशोर जायसवाल, प्रेस क्लब के अध्यक्ष श्री अरविंद तिवारी, क्रेडाई के सचिव श्री संदीप श्रीवास्तव, सोशल मीडिया इन्फ्ल्यूएंजर श्री राहुल भोसले, कपड़ा व्यापारी एसोसिएशन के श्री कैलाश मूंगड़, प्रेस्टिज कॉलेज के डॉ. डेविश जैन, श्रीमती जनक पलटा सहित अन्य लोगों ने अपने महत्वपूर्ण सुझाव दिये। कार्यक्रम में संस्कृति मंत्री सुश्री उषा ठाकुर, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सकलेचा, सांसद श्री शंकर लालवानी, महापौर श्री पुष्यमित्र भार्गव, विधायक श्रीमती मालिनी गौड़, श्री महेन्द्र हार्डिया, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जयपाल सिंह चावड़ा, श्री सावन सोनकर, श्री गौरव रणदिवे, श्री मनोज पटेल, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री राजेश सोनकर विशेष रूप से मौजूद थे।