भोपाल। लोकायुक्त टीम ने 25 हजार रुपए रिश्वत लेते PWD ठेकेदार को रंगे हाथों किया गिरफ्तार।

कबीर मिशन समाचार

भोपाल मध्यप्रदेश भोपाल लोकायुक्त डीएसपी सलिस शर्मा ने बताया कि भोपाल के अशोका गार्डन में रहने वाले महेंद्र पांडे पेशे से ठेकेदार हैं। उन्होंने 09 नवंबर को लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक को लिखित शिकायती आवेदन दिया था कि उन्होंने खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद संस्थान में बाउंड्री वॉल एवं एप्रोच रोड बनाने का काम किया था। पीडब्ल्यूडी इंजीनियर कमल सिंह कौशिक ने उनसे उक्त काम के पेंडिंग बिल व सुरक्षा निधि की रकम समेत लगभग 67 लाख रुपये का भुगतान स्वीकृत करने के एवज में एक प्रतिशत के हिसाब से (67 हजार रुपये) राशि की मांग की।

बाद में उनके बीच 25 हजार रुपये में मामला तय हुआ।उन्होंने बताया कि जांच में शिकायत सही पाए जाने के बाद लोकायुक्त टीम ने आरोपित को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। योजना के तहत फरियादी ने शनिवार को दोपहर में उसे मिलने के लिए नेहरू नगर चौराहे पर बुलाया। इंजीनियर कमल सिंह कौशिक अपने शासकीय वाहन इनोवा से वहां पहुंचा और उसने जैसे ही रिश्वत की रकम लेकर गाड़ी की दराज में रखी, उसी समय लोकायुक्त डीएसपी सलिल शर्मा व उनकी टीम ने उसे दबिश देकर उसे पकड़ लिया।

नेहरू नगर अति व्यस्त चौराहा होने से अग्रिम कार्रवाई के लिए सुविधाजनक स्थान न होने से लोकायुक्त टीम इंजीनियर को पकड़कर कमला नगर थाना पहुंची, जहां पर उससे पूछताछ की जा रही है। डीएसपी सलिल शर्मा की अगुआई में इंस्पेक्टर आशीष भट्टाचार्य, इंस्पेक्टर मयूरी गौर की टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया।