ब्यावरा। अस्पताल से प्रसूता को डिलीवरी में देरी बताकर भेजा घर लेकिन लाडली लक्ष्मी को प्रसूता ने शहर के बीच सड़क पर ही दिया जन्म।

ब्यावरा। अस्पताल से प्रसूता को डिलीवरी में देरी बताकर भेजा घर लेकिन लाडली लक्ष्मी को प्रसूता ने शहर के बीच सड़क पर ही दिया जन्म।

ब्यावरा राजगढ़ मध्यप्रदेश। कबीर मिशन समाचार पवन मेहरा

ब्यावरा। शहर के राजगढ रोड पर आज सुबह करीब 10 बजे एक प्रसूता ने प्रसव पीडा के चलते सडक के बीच लाडली लक्ष्मी को जन्म दे दिया। इससे पूर्व प्रसूता चंदाबाई शाक्यवार शासकीय सिविल अस्पताल ब्यावरा पहुंची थी। अस्पताल से सिस्टर ने वहां से उसे डिलीवरी में देरी होने का कह कर घर वापस कर दिया। रास्ते में दर्द अधिक होने पर महिला कैनरा बैंक के सामने ही बीच सडक पर गिर गयी। महिला को डिलीवरी होते देख आस पास मोहल्ले की महिलाएं आ गई थी। जिन्होंने त्रिपाल लगाकर महिला का सफल प्रसव करवाया। इस दौरान बडी संख्या में राहगीरो की भीड़ इक्का हो गयी। बिना सोनोग्राफी, बिना इंस्ट्रूमेंट और बिना सर्जरी के ही प्रत्यक्षदर्शियो, द्वारा बीच सडक पर त्रिपाल लगाकर सफल डिलीवरी करा दी। महिला की यह तीसरी डिलीवरी है। बच्ची को सड़क पर जन्म देना कहीं न कहीं प्रशासनीक लापरवाही को दर्शाता नजर आ रहा है। जबकि एक दिन पूर्व ही गुरुवार को भोपाल संभाग के आयुक्त माल सिंह भयडिया ने जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया था। उन्होने संबंधित अधिकारी से मेटरनिटी वार्ड में भर्ती गर्भवती माता के सीजर के संबंध में भी सिविल सर्जन से जानकारी ली थी। आयुक्त ने यह भी कहा था कि लाडली के जन्म पर विशेष कायर्क्रमो का आयोजन किए जाए। बावजूद इसके यह लापरवाहिया अब सड़कों पर डिलीवरी होती नजर आने लगी है।