दतिया मध्यप्रदेश राजनीति

कांग्रेस के बड़े नेता दामोदर यादव ने कांग्रेस से स्तीफा देकर आजाद समाज पार्टी का दामन थामा

कांग्रेस के बड़े नेता दामोदर यादव ने कांग्रेस से स्तीफा देकर आजाद समाज पार्टी का दामन थामा

कांग्रेस के बड़े नेता दामोदर यादव ने कांग्रेस से स्तीफा देकर आजाद समाज पार्टी का दामन थामा उन्हें दतिया सेबड़ा विधानसभ से प्रत्याशी बनाया गया उन्होंने भाई चंद्रशेखर आजाद जी भीम आर्मी आजाद समाज पार्टी को मजबूत करने की प्रतिज्ञा ली । मध्यप्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव 2023 के लिए आज़ाद समाज पार्टी (कांशीराम) मध्यप्रदेश के अधिकृत प्रत्याशियों की पांचवीं सूची इनका नाम जारी किया.

उन्होंने त्याग पत्र में लिखा है कि –

वैसे तो आपको विदित ही होगा कि मध्य प्रदेश कांग्रेस आपके द्वारा किए गए वादे और घोषणाओं का मजाक बना रही है। लेकिन अगर जानकारी का अभाव हो तो इस पत्र के माध्यम से बताना चाहता हूँ कि म.प्र. में विधान सभा चुनाव के लिये घोषित प्रत्याशियों की सूची सिर्फ 23-24 प्रतिशत ही पिछड़ा वर्ग को मौका दिया गया है। आप हर सभा और प्रेस कांफ्रेंस में जितनी आबादी उतना हक की बात कर रहे हैं। यहाँ तक कि कुछ दिन पूर्व दिल्ली प्रेस कांफ्रेंस में भी दलित पिछड़े पत्रकार कितने हैं ये भी गिनती कर रहे थे तो फिर अपनी पार्टी के प्रत्याशियों की सूची में पिछड़ों को हक क्यों नहीं? क्या कांग्रेस भी भाजपा की तरह पिछड़ा वर्ग को सिर्फ इस्तेमाल करती है?

कुछ दिन पूर्व मैंने OBC कांग्रेस का कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते कमलनाथ जी और सुरजेवाला जी को माँग पत्र सौंपकर OBC के लिये 126 टिकिटों की माँग की थी। लेकिन हमें 55 टिकिट ही दिये गए और पाल, बघेल एवं केबट, मांझी, समाज बड़ी संख्या में है लेकिन उन्हें एक भी टिकट नहीं दिया गया। पिछड़ों की अवादी 3.5 करोड़ (मतदाता) और टिकट सिर्फ 55 दिए और सामंतशाहियों की अवादी सिर्फ 10 लाख लेकिन 35 टिकिट दिये गये। यह घोर नाइंसाफी है और इसे बरदास्त नहीं किया जायेगा। म.प्र. में एक सामंती नेता अपने नाकाबिल बेटे को CM बनाना चाहता है और उसी की बातों में और दवाब में कमलनाथ गलत निर्णय करके पार्टी को बर्बाद कर रहे हैं। दरअसल कमलनाथ जी जितने ज्यादा सीधे और अच्छे व्यक्ति हैं दूसरा सामंती उतना ही दुष्ट प्रवृति का नेता है जिसने कांग्रेस को समाप्त करने की सुपारी ले रखी है। इसीलिए सिंधिया को पार्टी से बाहर भी उसी नेता ने किया था और कमलनाथ जी मूक दर्शक बने रहे।

इस पत्र के माध्यम से मैं मेरे पार्टी के सभी पदों से जैसे प्रदेश उपाध्यक्ष म.प्र. कांग्रेस कमेटी, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग कांग्रेस कमेटी, जिला संगठन प्रभारी निवाड़ी एवं प्रदेश प्रतिनिधि म.प्र. कांग्रेस कमेटी से इस्तीफा देता हूँ। साथ ही पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे रहा हूँ।

About The Author

Related posts