विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
September 25, 2022

जन्म स्थल से लेकर मुक्तिधाम तक गाजर घास का साम्राज्य – नवीन कुमार अग्रवाल

कबीर मिशन समाचार

जनप्रतिनिधि माला पहनने एवं पहनाने में व्यस्त

नीमच, 8 सितम्बर। नीमच शहर में 40 पार्षदों को जनता ने अपना जनप्रतिनिधि बनाकर वार्डो की समस्याओ को प्राथमिकता से हल करवाने की लिए परिषद् में भेजा था ,भोली भाली जनता को नहीं मालूम था की उन पार्षदों में से कुछ पार्षद मंडी की तरह अपनी बोली लगवाएंगे और लाखो रुपये में बिक कर क्रॉस वोटिंग कर परिषद् की मुखिया का चुनाव कर विजयश्री दिलवायेंगे। खैर मुखिया कोई भी बने लेकिन अब जब शहर गंदगी और बारिश में उग आयी गाजर घास से परेशान है तो जनता के चुने जनप्रतिनिधि चुनाव से पूर्व सेवाभावी ,कर्मठ ईमानदार , हर समय उपलब्ध होने का जो जूठा वादा कर चुनाव जीते थे आज वार्ड की समस्याओ से वाकिफ होते हुए भी नदारद है और माला पहनने और पहनाने में व्यस्त है उक्त तंज कसते हुए आप के नवीन कुमार अग्रवाल ने पूरी परिषद् को निष्क्रिय बताया है।

अग्रवाल ने कहा की शहर में गाजर घास का यह आलम है की जंहा शाश्कीय अस्पताल में व्यक्ति जन्म लेता है वही पर गाजर घास का साम्राज्य स्थापित है तो दूसरी और अंतिम स्थल मुक्ति धाम पहुँचता है तो वहा पर भी सर्वत्र गाजर घास का साम्राज्य दिखाई देता है इससे आप अंदाजा लगा सकते है की जब जन्म से लेकर मुक्तिधाम तक निष्क्रिय परिषद् के कारन गाजर घास विध्यमान है तो बाकि शहरी क्षेत्र का क्या हाल होगा यह बताने की आवश्य्कता नहीं है।
अग्रवाल ने कहा की वर्षा ऋतू के प्रारम्भ में ही हमने परिषद् को एवं मुख्य नगर पालिका अधिकारी को सुझाव दिया था की गाजर घास को काटने की जगह उखाड़कर नष्ट किया जावे लेकिन अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने के चक्कर में जंहा जंहा गाजर घास काटी गई थी आज वो फिर से नई कोपलों के रूप में फुटकर पुनः उग आयी है जबकि एक बार उखाड़ने पर वो नष्ट हो सकती थी इतनी तो सामान्य जानकारी परिषद् एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी को होना चाहिए।
गाजर घास उखाड़ने से एलर्जी नहीं होती है और इसका प्रमाण हम है जो पिछले दस वर्षो से स्वयं श्रमदान कर अपनी सामर्थ्य अनुसार गाजर घास उन्मूलन करने का प्रयास कर रहे है और उसके सार्थक परिणाम भी देखे जा सकते है , एलर्जी जब होती है जब गाजर घास के कारन छोटे छोटे महीन मच्छर जैसे किट पतंग गाजर घास के कारन विकसित होकर हमारे शरीर पर बैठते है और उससे खुजली चलती है तो संवेदनशील त्वचा वाले व्यक्ति चर्म रोग से ग्रसित हो जाते है और उसका इलाज एक ही है की नपा को तुरंत गाजर घास पर फूल आने से पूर्व ही उसे नष्ट करवा दे।
अग्रवाल ने कहा की जिस तन्मयता से जनप्रतिनिधि माला पहनते है और पहनाते है ,अगर उसी तन्मयता से गाजर घास का उन्मूलन करे तो जनता उसे दुआ देंगी और चुनाव के समय पैसा और दारू नहीं बांटना पड़ेगा
जय हिन्द जय भारत

नवीन कुमार अग्रवाल
आम आदमी पार्टी
नीमच
9826270178