मध्यप्रदेश राजनीति सीहोर

गवशाला में ही भूख प्यास से हो रही गाय की मौत, जिम्मेदार जनप्रतिनिधि नहीं दे रहे ध्यान।

गवशाला में ही भूख प्यास से हो रही गाय की मौत, जिम्मेदार जनप्रतिनिधि नहीं दे रहे ध्यान।

कबीर मिशन समाचार जिला सीहोर।

आष्टा से संजय सोलंकी की रिपोर्ट।
आष्टा । जाह देश में गाय को माता माना जाता है वही गाय को खाने पीने के लिए चारा और पानी नही मिल रहा है और गाय अपने प्राण त्याग रही है ऐसा ही मामला सिहोर जिले की आष्टा जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत जसमत में एक बड़ी लापरवाही देखने को मिल रही है जहा पर ग्राम पंचायत जसमत में बनी गवशाला में भूख प्यास से हर 4 दिन के भीतर एक गाय अपनी जान गवा रही है,जब गवशाला में जाकर हमारी टीम ने देखा तो नजारा भयानक रूप नजर आया क्योंकि वह पर एक गाय मरी हुई थी जब इस मामले को जानने की कोशिश की जब वही के गायों की देख भाल करे रहे बुजुर्गो ने बताया की यह गवशाला वनविभाग वालो ने बनाई थी

जिसको बाद में ग्राम पंचायत के हाथ में सौप दिया।जिसके बाद आज तक न तो सरपंच गवशाला की तरफ आए न ही सचिव यह तक की आज तक गायों के लिए पंचायत की तरफ से खाने के लिए चारा भी उपलब्ध नहीं करवाया गया यह पर लगभग 125 गाय के आसपास है जिसके लिए खाने का पर्याप्त चारा नहीं होने के करें हर 4,5 दिन के भीतर एक गाय अपने प्राण त्याग रही है अभी तक इस गोशाला में 15 गाय अपनी जान गंवा बैठी है अगर ऐसा ही चलता रहा तो एक दिन इस गोशाला में गाय नही बचेगी ,गाय की देख भाल कर रहे बुजुर्ग ने बताया की हम यह 7 8 महीने से फ्री में काम कर रहे हैं अभी कोई भी जिम्मेदार जनप्रतिनिधि ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया है।

About The Author

Related posts