उत्तरप्रदेश शिक्षा

स्कूल में बच्चों को दिया जाता है सांस्कारिक ज्ञान: डॉ. जेपी यादव।

स्कूल में बच्चों को दिया जाता है सांस्कारिक ज्ञान: डॉ. जेपी यादव।

जिला ब्यूरो चीफ योगेश गोविन्द राव कबीर मिशन समाचार पत्र कुशीनगर उत्तर प्रदेश।

कुशीनगर। नगर पालिका परिषद कुशीनगर के वार्ड नम्बर 15 वीर सावरकर नगर (सबया) स्थित जीवन दीप सेंट्रल स्कूल के वार्षिक परीक्षा फल वितरण कार्यक्रम में छात्र – छात्राओं को प्रगति पत्र व मेडल देकर सम्मानित किया गया।

आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि डॉ. अवधेश कुशवाहा, प्रबन्धक डॉ. जेपी यादव ने स्कूल स्तर पर कक्षा पांच वीं की आँचल गुप्ता प्रथम, कक्षा चार नैतिक तिवारी द्वितीय, कक्षा छः कीछाया गुप्ता तृतीय, कक्षा सात में प्रथम वर्तिका नायक, कक्षा आठ की जाह्नवी मिश्रा, कक्षा नौ की नंदिता विश्वकर्मा के कक्षा में प्रथम आने पर मेडल व प्रगति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

मुख्य अतिथि डॉ. कुशवाहा ने कहा कि बच्चों को नैतिक व संस्कार पूर्ण शिक्षा के प्रति जागरूकता जरूरी है। क्योंकि शिक्षा ही विकास का द्वार है। यही बच्चे भविष्य के नागरिक हैं।प्रबन्धक डॉ. यादव ने कहा कि बच्चों में मेधा शक्ति के विकास को लेकर छात्र – छात्राओं को उचित मार्ग दर्शन देने का प्रयास किया जाता है और पढ़ने, लिखने के साथ व्यवहारिक ज्ञान पर भी जोर दिया जाता है।

इस अवसर पर शिक्षक गोपाल राय, गणेश सिंह पटेल, विवेकानन्द पांडेय, आरबी प्रसाद, संजय कुमार, नीतीश विश्वकर्मा, अर्नव सिंह, संगीता सिंह, नीलम पाठक, लक्ष्मी तिवारी, अर्चना सिंह, अंजना पांडेय, निशा शाही, प्रीति सिंह, प्रिया सिंह सहित अभिभावक उपस्थित रहे।नगर पालिका परिषद कुशीनगर के वार्ड नम्बर 15 वीर सावरकर नगर (सबया) स्थित जीवन दीप सेंट्रल स्कूल के वार्षिक परीक्षा फल वितरण कार्यक्रम में छात्र – छात्राओं को प्रगति पत्र व मेडल देकर सम्मानित किया गया।

आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि डॉ. अवधेश कुशवाहा, प्रबन्धक डॉ. जेपी यादव ने स्कूल स्तर पर कक्षा पांच वीं की आँचल गुप्ता प्रथम, कक्षा चार नैतिक तिवारी द्वितीय, कक्षा छः कीछाया गुप्ता तृतीय, कक्षा सात में प्रथम वर्तिका नायक, कक्षा आठ की जाह्नवी मिश्रा, कक्षा नौ की नंदिता विश्वकर्मा के कक्षा में प्रथम आने पर मेडल व प्रगति पत्र देकर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि डॉ. कुशवाहा ने कहा कि बच्चों को नैतिक व संस्कार पूर्ण शिक्षा के प्रति जागरूकता जरूरी है। क्योंकि शिक्षा ही विकास का द्वार है।

यही बच्चे भविष्य के नागरिक हैं। प्रबन्धक डॉ. यादव ने कहा कि बच्चों में मेधा शक्ति के विकास को लेकर छात्र – छात्राओं को उचित मार्ग दर्शन देने का प्रयास किया जाता है और पढ़ने, लिखने के साथ व्यवहारिक ज्ञान पर भी जोर दिया जाता है। इस अवसर पर शिक्षक गोपाल राय, गणेश सिंह पटेल, विवेकानन्द पांडेय, आरबी प्रसाद, संजय कुमार, नीतीश विश्वकर्मा, अर्नव सिंह, संगीता सिंह, नीलम पाठक, लक्ष्मी तिवारी, अर्चना सिंह, अंजना पांडेय, निशा शाही, प्रीति सिंह, प्रिया सिंह सहित अभिभावक उपस्थित रहे।

About The Author

Related posts