आगर-मालवा

आगर। शासकीय भूमि पर अतिक्रमण कर मकान बनाने पर पत्रकार द्वारा पूछने मात्र से दबंग ने जान से मारने की दी धमकी

आगर। शासकीय भूमि पर अतिक्रमण कर मकान बनाने पर पत्रकार द्वारा पूछने मात्र से दबंग ने जान से मारने की दी धमकी

परिवार वालों को कुल्हाड़ी से डराया धमकाया

कबीर मिशन – संतोष कुमार सोनगरा जिला ब्यूरो चीफ आगर मालवा आगर – ग्राम रणायरा राठौर में बना सामुदायिक मांगलिक भवन के पास खाली पड़ी शासकीय भूमि पर अतिक्रमण कर मकान बनाने को लेकर केवल पत्रकार संतोष कुमार सोनगरा के द्वारा पूर्व कांग्रेस जनपद प्रतिनिधि रमेश चंद्र सोनगरा पिता बापूजी से केवल एक बात पूछने पर ही पत्रकार की जान के पीछे पढ़े हुए हैं ।

जान से मारने की कोशिश करते हुए और परिवार को कुल्हाड़ी लेकर जान से मारने की धमकी देते हुए, घर पर हमला करने की मंशा से आए हुए थे । जबकि एक पत्रकार का काम होता है जनता और सरकार के बीच सामंजस्य स्थापित करना अच्छे बुरे काम को बताना सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाना ।

किसी भी प्रकार के जनविरोधी काम को सरकार तक पहुंचाना । पत्रकार हूँ जानते हुए भी दिलीप सोनगरा कुल्हाड़ी लेकर हमला करने की कोशिश करते हुए आया लेकिन बिच बचाव करते हुए गाँव के व्यक्ति के द्वारा दिलीप सोनगरा को समझाते हुए पकड़कर एक तरफ ले गए । पत्रकार जाने को कहा,और वह देवास जिले की टोंक खुर्द तहसील में जमीन का सिमांकल करवाने के लिए जाना था, अपनी माता जी कमला बाई को लेकर चले गया थे। जाने के बाद पत्रकार के परिवार को जीतेन्द्र सोनगरा और दिलीप सोनगरा कुल्हाड़ी लेकर मारने आए थे । कहने लगे आगे भविष्य में अतिक्रमण नहीं करने दिया तो परिवार को जान से मार देंगे ।

फिर भी पत्रकार संतोष कुमार सोनगरा ने अपने परिवार के साथ किसी भी प्रकार की कोई घटना घटित होती है तो उसकी समस्त जवाबदेही रमेश चन्द्र पिता बापूजी, जितेंद्र, दिलीप सोनगरा की रहेगी ऐसा आवेदन नहीं देते हुए समाजजन को लेकर सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाकर उस जमीन जिसका सर्वे नं 504 रकबा 0.7400 हेक्टेयर है ।

अनुसूचित जाति के 60 परिवारों की बस्ती में शासकीय भूमि पर बने मांगलिक भवन के आसपास खाली पड़ी जमीन पर संत रविदास जी महाराज का मंदिर बनाने का निर्णय सभी परिवारों की सहमति से सन 2014 से ही ले लिया था । और इसीलिए हम अनुसूचित जाति के लोगों ने खासकर केवल चमार समाज के लोगों ने तन,मन और आर्थिक सहयोग 2 लाख रुपये तक कर मांगलिक भवन के लिए स्थान का समतलीकरण कर वहां पर सामूहिक मांगलिक भवन का निर्माण करवाया ।

लेकिन आज दिनांक तक हम हमारे परम पूजनीय संत श्री शिरोमणि रविदास जी महाराज का मंदिर नहीं बनवा पाए । क्योंकि की उस खाली स्थान पर रमेश पिता बापूजी एवं रामप्रसाद पिता बापूजी जाती चमार ने सन् 2016-2017 में फिर से कुड़ा डालकर अतिक्रमण कर रखा था । समाज जनो ने कुड़ा हटाने का कई बार बोला लेकिन दोनों भाईयों ने यह कहकर कुड़ा नहीं हटाया की आप जब भी संत रविदास जी महाराज का मंदिर बनाओगे तब हम हटा लेंगे ।

लेकिन अब रमेश पिता बापूजी का छोटा लड़का दिलीप सोनगरा कुड़ा हटा कर यहाँ घर बनाने का निर्माण कार्य करना चाहता है । जबकि इस स्थान पर समस्त समाज जनो ने इस जगह का समतलीकरण करते समय एक स्टांप पर यह इकरार नामा लिखा था की हम समाज जन भविष्य में इस स्थान की किसी भी परिस्थिति में नाजायज अतिक्रमण नहीं करेंगे । खासकर इन चारों भाईयों ( शंकरलाल, रमेश चन्द,मेरवान और रामप्रसाद पिता बापूजी ने यह निर्णय लिया है इस स्थान पर को संत शिरोमणि रविदास जी के नाम से करने के बाद उस स्थान पर मंदिर बनाने की अनुमति प्रशासन से और फिर मुर्ति स्थापित करने का आवेदन थाना कानड़, तहसीलदार महोदय आगर, अनुविभागीय अधिकारी महोदय आगर, पुलिस अधीक्षक महोदय एवं कलेक्टर महोदय को दिया ।

आवेदन देने के लिए समाज के कई लोग पत्रकार संतोष कुमार सोनगरा, पूर्व सरपंच मौजूदा जनपद आगर प्रतिनिधि, गोकुल सोलंकी, बंशी लाल जसोदिया ,भारत जसोदिया, फुल चंद, दिनेश सोनगरा, विक्रम मालवीय, भेरु मंडोर, संतोष /धन्ना जी सोनगरा, भुरु सोनगरा, रमेश, गोपाल सोनगरा, मोहनलाल जसोदिया, संतोष /भग्गा जी उपस्थित रहे ।

About The Author

Related posts