विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
September 25, 2022

दिल्ली के दल ने कारम डैम से खरगोन का आपदा प्रबंधन का किया अध्ययन

कबीर मिशन समाचार खरगोन जिला प्रतिनिधि विशाल भमोरिया खरगोन। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान नई दिल्ली, बांध सुरक्षा आयोग और केंद्रीय जल आयोग के विशेषज्ञ अधिकारियों ने रविवार को महेश्वर तहसील के गांवों का अध्ययन किया। इस दल में एनआईडीएम में रिस्क प्रबंधन प्रभाग के अध्यक्ष प्रोफे. सूर्य प्रकाश के साथ केंद्रीय जल आयोग के संचालक श्री सरत चंद्रा, सलाहकार ड़ॉ. अमित लाल हलधर, अजित बाथम और हरिहर कुमार देवड़ा ने जलकोटा और काकरिया गांवों का निरीक्षण कर ग्रामीणों से हालात जाने।

ज्ञात हो कि गत माह 11 अगस्त से 14 अगस्त के बीच धार स्थित भारुंडपूरा में कारम डेम में रिसाव के बाद मप्र शासन ने विशेषज्ञों की निगरानी में डैम को तोड़ने का निर्णय किया था। इससे पूर्व शासन ने डैम के एक हिस्से से केनाल बनाकर अतिरिक्त पानी की निकासी की गई। रविवार को दल ने ग्रामीणों और संबंधित अधिकारियों से उन दिनों शासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं और गांव खाली कराने के लिए की गई आपात सुविधाओ के बारे में जाना। डिप्टी कलेक्टर श्री ओमनारायण सिंह ने बताया कि दल ने स्वास्थ्य सुविधाओं के हिसाब से की गई व्यवस्था के बारे में जाना।

जलकोटा के ग्रामीणों ने बताया कि खाने पीने की तत्कालीन सभी आवश्यक व्यवस्थाएं की गई थी। साथ ही गांव में ही स्वास्थ्य विभाग का दल उन दिनों एम्बुलेंस के साथ मौजूद रहा।

जलकोटा के इन किसानों दी प्रतिक्रियाएं

नई दिल्ली से जलकोटा पहुँचे अधिकारियों ने जलकोटा में करीब 2 घण्टे किसानों और युवाओं से फीडबैक लिया। इस दौरान जलकोटा के 24 वर्षीय विनोद वर्मा, 42 वर्षीय शिव दरबार, सुभाष वर्मा, घनश्याम मेवाड़े और 37 वर्षीय शेरू ने अपनी प्रतिक्रियाएं डिम उपसरपंच महेश वर्मा ने बताया कि प्रशासन के सहयोग में गांव के युवाओँ ने खाली करने में बड़ी भूमिका निभाई। गांव के नागरिको और प्रशासन के समन्वय से ही गांव खाली हुआ। गांव के ऊंचे स्थानों पर कैम्प बनाये गए थे।

अधिकारियों ने भी गाँव मे ही भोजन किया

आपदा के समय कलेक्टर श्री कुमार पुरुषोत्तम और पुलिस अधीक्षक श्री धर्मवीर सिंह लगातार गाँव मे शिविर किये रहे। साथ ही ग्रामीणों के साथ गांव में भोजन भी किया। स्वास्थ्य की दृष्टि से प्रभावित गांवों में बेहतर व्यवस्थाओं के बारे में अधिकारियों को फीडबैक दिया। स्वास्थ्य दल अपने साथ हेल्थ किट लेकर प्रभावित सभी गांवो में लगे रहें। अधिकारियों को एसडीएम दिव्य पटेल ने बताया कि एएनएम के पास उपलब्ध सूची के अनुसार गर्भवती महिलाओं सहित अन्य गंभीर मरीजों को भी स्वास्थ्य लाभ दिया गया।

दल में शामिल विशेषज्ञों ने भोजन परिवहन ठहरने की व्यवस्थाओं के अलावा पशुओं व बाढ़ के पूर्व व अलर्ट के समय गांव खाली कराने में प्रशासन के सामने आयी समस्याओं को भी गहराई से जाना। दल के साथ डीसी श्री सिंह और मण्डलेश्वर एसडीएम दिव्य पटेल व अन्य प्रशासनिक अमला मौजूद रहा।