किसानों ने लगाए रेल मंत्रालय पर आरोप:कौड़ियों के दाम जमीन खरीदना चाहता है विभाग , SDM बोले- सभी किसानों को मुआवजा मिलेगा।

कबीर मिशन समाचार सिहोर।
सिहोर से संजय सोलंकी की रिपोर्ट।
सिहोर:रेसाई पार्वती सिंचाई परियोजना और रामगंज भोपाल रेलवे लाइन के नाम पर श्यामपुर तहसील के 2 दर्जन से अधिक गांवों के किसानों से खेती की जमीन रेल मंत्रालय ओर जलाशय निर्माण विभाग कौड़ियों के दाम पर खरीदना चाहता है। ग्राम पंचायत पलासी सोंडा मे किसान पंचायत किसान नेता कृपाल सिंह दांगी की अध्यक्षता और अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश सचिव दास बैरागी के मुख्य वक्तृत्व में आज बैठक आयोजित की गई । L बंजारा समाज किसानों को संबोधित करते हुए प्रहलाद दास बैरागी ने कहा कि रेसाई पार्वती सिंचाई परियोजन मे भ्रष्टाचार किया जा रहा है।

मध्य प्रदेश सरकार की मदद से रेल मंत्रालय किसानों की खेती की जमीन कौड़ियों के दाम खरीदना चाहता है।किसानों को पूर्व में राजस्व विभाग द्वारा जो नोटिस दिया गया था, वह डेढ़ एकड का था। दूसरी बार जो नोटिस दिया। वह 2 डेसीमल से 5 डेसीमल का था। किसानों की जो भूमि राजस्व रिकार्ड मे सिंचित थी, उस भूमि को असिंचित बताकर मुआवजा जानबूझकर कम दिया जा रहा है।यही विडंबना रामगंज से भोपाल रेल लाइन कारण आधिकंश किसानों के साथ बनी है।किसानों की मुआवजा राशि अभी तक नहीं डाली है। बिछिया गांव की भूमि नेशनल हाईवे से लगी होने के बाद भी मुआवजा प्रधानमंत्री सड़क के हिसाब से दिया जा रहा है। ग्रामीण लोगों ने मामले में ज्ञापन दिए। लेकिन समस्याओं का निराकरण नहीं किया।

किसानों को सिंचित भूमि के मुताबिक मुआवजा प्रदान किया जाए, भ्रष्टाचार को रोका जाए। उपरोक्त समस्याओं का निराकरण और मांगों को पूरा नहीं किया जाता है तोअखिल भारतीय किसान सभा क्षेत्र के किसान के साथ आंदोलन के लिए बाध्य होगी। मामले में एसडीएम अमन मिश्रा का कहना है कि किसानों की पूरक सूची बन कर सभी को नियमानुसार मुआवजा मिलेगा।