क्राइम सीहोर

जावर पुलिस की लापरवाही से एक व्यक्ति की मौत,रिपोर्ट न लिखने का आरोप एसपी मयंक अवस्थी ने एक si समेत 3 पुलिस कर्मियों को किया निलंबित।

जावर पुलिस की लापरवाही से एक व्यक्ति की मौत,रिपोर्ट न लिखने का आरोप एसपी मयंक अवस्थी ने एक si समेत 3 पुलिस कर्मियों को किया निलंबित।


कबीर मिशन समाचार जिला सीहोर
जावर से संजय सोलंकी की रिपोर्ट।
सिहोर।सीहोर जिले के जावर थाना क्षेत्र में दो पक्षों में जमीन विवाद को लेकर जमकर लाठी-डंडे चले। हैरत की बात ये है कि पीड़ित पक्ष शिकायत करने थाने पहुंचा तो यहां उनकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। इस दौरान मारपीट में घायल एक व्यक्ति की थाने में ही तबीयत बिगड़ गई, जिसे अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई।
बताया जाता है कि परिजनों ने पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया था। इसका एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें पीड़ित पुलिस पर आरोप लगाते और घायल को अस्पताल ले जाते दिखाई दे रहे हैं। वीडियो सामने आने के बाद एसपी मयंक अवस्थी ने एसआई सहित तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है। पूरा मामला इस प्रकार है कि जावर तहसील की कल्याणपुरा ग्राम पंचायत के कान्याखेड़ी गांव में गुरुवार रात को दो पक्षों में विवाद हो गया था। गांव में रहले वाले शोभाल सिंह ठाकुर, लखन सिंह, बिजेंद्र सिंह ने चेतन सिंह, बलवान सिंह और अर्जुन सिंह की लाठी डंडों से मारपीट की थी, इसमें बलवान सिंह और अर्जुन सिंह को चोट आई थी।
परिजन घायलों काे लेकर रात में ही जावर थाने में एफआईआर कराने के लिए पहुंचे थे। यहां काफी देर तक उनकी सुनवाई नहीं हुई। तभी बलवान सिंह की तबीयत बिगड़ गई। परिजन उसे अस्पताल ले गए, वहां बलवान की मौत हो गई। वहीं, घायल अर्जुन को अस्पताल में भर्ती कराया गया। परिजनों का आरोप है कि बलवान सिंह की पीट-पीट कर हत्या की गई है। हालांकि, अभी यह साफ नहीं है कि मौत की वजह क्या रही।

जावर थाने के तीन पुलिसकर्मी निलंबित
इस मामले को सीहोर एसपी मयंक अवस्थी ने गंभीरता से लेते हुए जावर थाने के एसआई अनिल डोडियार, प्रधान आरक्षक भरत राम और आरक्षक अर्जुन को निलंबित कर दिया है। एसडीओपी आकाश अमलकर ने तीन पुलिस कर्मियों के निलंबन की पुष्टि की है।

खेत से कब्जा हटाने का बोला तो कर दी मारपीट
घायल अर्जुन सिंह ने बताया कि मैं अपने भाई चेतन, भतीजे पुष्पेंद्र और शुभम के साथ खेत पर था। यहां शोभाल सिंह से खेत की मेड़ को लेकर विवाद था, उसे सुलझाने के लिए बात कर रहे थे। शोभाल सिंह तथा उसके भाइयों ने हमारी जमीन में पत्थर जमा दिए। हमने पत्थर हटाने के लिए कहा तो सोभाल सिंह, लखन सिंह, विजेन्द्र और रामसिंह गालियां देने लगे। गाली देने से मना करने पर सोभाल सिंह, लखन सिंह, विजेन्द्र और रामसिह डंडे लेकर आए और मारपीट करने लगे।

कुछ देर बाद पिंटु उर्फ शिवनारायण, गोपाल सिंह, अरविन्द सिह भी डंडे लेकर आ गए। हमारे साथ मारपीट की। इस मामले में पुलिस ने घायल अर्जुन सिंह की रिपोर्ट पर राम सिंह, शोभाल सिंह सेंधव, लखन सिंह, बिजेंद्र सिंह, पिंटू सेंधव, गोपाल और अर्जुन सेंधव पर हत्या के प्रयास और मारपीट की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। पुलिस का कहना है कि इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

About The Author

Related posts