उत्तरप्रदेश क्राइम

रामकोला थानाध्यक्ष ने नये अपराधिक कानून में बदलाव को लेकर ग्राम प्रधान, सभासद संभ्रान्त लोगों में की बैठक।

रामकोला थानाध्यक्ष ने नये अपराधिक कानून में बदलाव को लेकर ग्राम प्रधान, सभासद संभ्रान्त लोगों में की बैठक।

जिला ब्यूरो चीफ योगेश गोविन्द राव कबीर मिशन समाचार पत्र कुशीनगर उत्तर प्रदेश।

कुशीनगर के रामकोला नये कानून को लेकर थाने में ग्राम प्रधान , सभासद, संभ्रांत नागरिकों एवं पत्रकार गणों की संयुक्त बैठक आयोजित हुई जिसमें चर्चा के दौरान बताया गया है केन्द्र सरकार ने सन् 1860 में अंग्रेजों के समय से उनके द्वारा बनाए गए अपराधिक कानून भारतीय दण्ड संहिता (आईपीसी) के स्थान पर आज से भारतीय न्याय संहिता (बीएनएस2023), 1898 मे बने सी आर पी सी की जगह भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 एवं 1872 में बने इण्डियन एवीडेंस कोड की जगह अब भारतीय साक्ष्य संहिता 2023 लागू हो गया है।

इसी के साथ भारतीय कानूनी प्रक्रिया में काफी कुछ बदलाव हो जायेगा।कानूनी प्रक्रिया में हुए इस बदलाव को जन जन तक पहुंचाने के लिए प्रभारी निरीक्षक रामकोला विनय कुमार सिंह ने क्षेत्र के संभ्रांत नागरिकों, ग्राम प्रधान गणों, सभासद गणों एवं पञकार गणों की संयुक्त रूप में बैठकर लोगों तक पहुंचाने में सहयोग करने की अपील किया।इस अवसर पर प्रभारी निरीक्षक विनय कुमार सिंह ने कहा कि दण्ड शब्द गुलामी का प्रतीक है इसकी जगह न्याय अर्थात भारतीय न्याय संहिता लागू हो जाने से न्यायालय से लेकर विवेचक तक सभी के लिए समय सीमा तय कर दी गई है जिससे लोगों को पहले की तुलना में त्वरित न्याय मिल सकेगा।

इस नये कानून के लागू होने पर पहले देशद्रोह की धारा 124 के स्थान पर भारतीय न्याय संहिता की धारा 152, हत्या की धारा 302 अब भारतीय न्याय संहिता धारा 101, हत्या का प्रयास 307अब भारतीय न्याय संहिता धारा 109, दुष्कर्म की धारा 376अब भारतीय न्याय संहिता धारा 63 इत्यादि।इस अवसर पर ग्राम प्रधान राजेश राव, रंजीत खटिक, सभासद आलोक गुप्ता, मैनुद्दीन, संतोष कुमार, पूर्व सभासद सुग्रीव चौधरी,सुनेला गुप्ता, नन्हे सिंह उप निरीक्षक अनिल कुमार यादव, आकाश सिंह, उपेन्द्र यादव, प्रदीप सिंह, संतोष कुमार,हेड कांस्टेबल लक्ष्मण सिंह,अमित सिंह आदि मौजूद रहे।

About The Author

Related posts