भोपाल मध्यप्रदेश

शहीद वीर मनीराम अहिरवार जी की 107 वीं जयंती कांग्रेस कार्यालय में जिला कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग द्वारा मनाई गई
“कांग्रेस पिछड़ा वर्ग के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष श्री महेन्द्र सिंह को भोपाल अजा जिला अध्यक्ष श्री महेश नंदमेहर ने सौंपा वचन पत्र के लिए सुझाव एंव मांग पत्र सौंपा गया”

शहीद वीर मनीराम अहिरवार जी की 107 वीं जयंती कांग्रेस कार्यालय में जिला कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग द्वारा मनाई गई<br>“कांग्रेस पिछड़ा वर्ग के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष श्री महेन्द्र सिंह को भोपाल अजा जिला अध्यक्ष श्री महेश नंदमेहर ने सौंपा वचन पत्र के लिए सुझाव एंव मांग पत्र सौंपा गया”

भोपाल। देश की आजादी में हर वर्ग व धर्म के महापुरुषों ने अपना अपना योगदान और कुर्बानी देकर आजादी दी है। सन 19 42 के स्वतंत्रता आंदोलन में महात्मा गांधी के आवाहन पर चल रहे अंग्रेजों भारत छोड़ो के आन्दोलन में शामिल होने वाले चीचली गोंड महाराज श्री शंकर प्रताप सिंह जू देव जी के खास सेवादार वीर मनीराम अहिरवार जी जो कि राजमहल की सुरक्षा में सेवादार के रूप में काम करते थे।


सन 19 42 में चीचली महाराज जी जब पढ़ने लिखने के लिए बाहर गये थे। तब महल की देखभाल व सुरक्षा के लिए वीर बहादुर मनीराम अहिरवार जी को राजा साहब ने सम्पूर्ण सुरक्षा व्यवस्था का जुम्मा सौंपे तभी दिनांक 23 अगस्त 19 42 को अंग्रेजी सेना महल पर कब्जा एवं लूटने आये। उनसे भीषण युद्ध वीर मनीराम अहिरवार जी ने अंग्रेजी सेना से संघर्ष करते हुए अंग्रेजी सेना को लहूलुहान कर व उन्हें परास्त कर गांव से खदेड़ा। युद्ध में वीर मनीराम अहिरवार जी पर चलीं गोली में गांव के महान क्रांतिकारी वीर मंशाराम जसाटी जी और वीरांगना गौरादेवी जी की शहादत हुई। मनीराम जी युद्ध करते रहे। दूसरे दिन गिरफ्तारी हेतु अंग्रेजी सेना चीचली आई गांव के अनेक आन्दोलित युवाओं को साथ ले गई। वीर मनीराम भूमिगत हो गये, बाद में उन्हें छल कपट से अंग्रेजी सेना अपने जाल में फंसा कर ले गई। उन पर अत्याचार, दमन व प्रताड़ना दी कि वह चीचली गोंड महल की सुरक्षा छोड़ कर अनुसूचित जाति और जनजाति के युवाओं को अंग्रेजी सेना में गुलामी एवं बेगारी करने हेतु सेना में भर्ती कराये।

उनकी इस शर्त को न मानने और जबाब में कहा कि मैं गोंड महल की सुरक्षा के लिए जान तक देने के लिये तैयार हूँ, पर तुम्हारी कोई बात नहीं मानूंगा।अंग्रेजों ने वीर मनीराम जी के प्राण ले लिया, वीर मनीराम अहिरवार जी ने हंसते हंसते मात्रृभूमी पर कुर्बानी देकर अनुसूचित जनजातियों के स्वाभिमान के लिए शहादत दी ।लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि इतिहास में ऐसे बलिदानी का नाम कम लिखा गया है। जबकि चीचली में अंग्रेजी सेना से उन्होंने गोलीओं से सामना कर गोंड महल के लिए युद्ध लडा।


21 नबम्वर 2022 को मध्यप्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में श्री महेन्द्र सिंह (पूर्व डिप्टी कलेक्टर) पिछड़ा वर्ग कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष एवं कांग्रेस वचन पत्र 2023 सदस्य के मुख्य अतिथि में, श्री एस एस सूरवंशी जी (सीआईडी पुलिस निरीक्षक) व प्रदेश अध्यक्ष अखिल भारतीय डाँ. अम्बेडकर विचार मंच व श्री महेश नंदमेहर जी भोपाल जिला कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग भोपाल के विशिष्ट अतिथि एवं अमर शहीद वीर मनीराम अहिरवार जी के उत्तराधिकारी सुपौत्र मूलचन्द मेधोनिया की अध्यक्षता में तथा मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी सचिव श्री विक्रम चौधरी जी, श्री हेमंत नरवरिया जी नर्मदापुरम संभाग प्रभारी मध्यप्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग वरिष्ठ नेता, सरपंच उपसरपंच पंच कल्याण समिति मध्यप्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष श्री बलवान सिंह कुशवाहा जी, जगदीश राण जी, चिंतामण जी, मुकेश चौधरी जी, इत्यादि नेताओं और सामाजिक गणमान्य लोगों की उपस्थिति में शहीद वीर मनीराम अहिरवार जी की जयंती मनाई गई।


इस मौके पर भोपाल जिला कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग भोपाल के अध्यक्ष श्री महेश नंदमेहर जी ने कांग्रेस वचन पत्र 2023 के लिए सुझाव व मांग पत्र मुख्य अतिथि जी को दिया। तथा भोपाल अजा कांग्रेस अध्यक्ष श्री महेश नंदमेहर जी ने कहा कि हमारे अनुसूचित जाति के महान क्रांतिकारी वीर सपूत का कांग्रेस कार्यकर्ताओं एवं अनुसूचित जाति के प्रदेश भर के सामाजिक संगठनों की मांग है कि हमारे वर्ग के एकमात्र शहीद को इतिहास में स्थान नहीं दिया है। अनुसूचित के लोगों द्वारा लम्बे समय से मांग की जा रही है। तथा नाराजगी बड़े पैमाने पर भी जताई जा रही है कि कांग्रेस के शासन काल में हमारे ऐसे क्रांतिकारी का सम्मान न देना और उपेक्षा कर अन्याय हुआ है। यह मुद्दा हर बार विधानसभा /लोकसभा चुनाव में बीजेपी और राजनैतिक पार्टीओं के द्वारा उठाकर कांग्रेस को भारी नुकसान पहुंचाया जाता है । अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों का जनाधार को प्रभावित हर चुनाव में भी राजनैतिक दलों द्वारा लाभ उठा कर कांग्रेस को नुकसान किया जाता है। सभी उपस्थित अनुसूचित जाति के वरिष्ठ समाजसेवी, पत्रकारों और कांग्रेस नेताओं के द्वारा अमर शहीद वीर मनीराम अहिरवार जी को पुष अर्पित कर भावभीनी विनम्र श्रध्दांजलि अर्पित कर मोमबत्ती जलाकर नमन किया और एक मत से पुरजोर मांग की है कि वीर मनीराम अहिरवार जी को शहीद दर्जा दिया जाये।

About The Author

Related posts