बेमौसम बारिश ने छीना किसानों के मुंह से निवाला

पहले कम बारिश में किसान की फसल पैदावार में चिंता कमलनाथ जी की तरह शिवराज सरकार भी किसानों को मुआवजा दे

राहुल मेहर मंदसौर। कबीर मिशन समाचार

मंदसौर/सुवासरा विधानसभा क्षेत्र मैं हो रही बारिश से किसानो की फसल पैदावार मैं मैं काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है कहीं बारिश ज्यादा तो कहीं कम की वजह से सोयाबीन की फसल नष्ट होते हुए दीक रही है। लगभग सभी किसानों को जहा ज्यादा बारिश हुई है वहां पर किसानों की खड़ी खड़ी फसल खराब हो गई है। और जिनके जहां कम बारिश हुई उनके सोयाबीन की पैदावार नाम मात्र ही हुई बरसात अगर सही से होती है तो लगभग हर किसान के खेत में एक बीघा जगह में 3 क्विंटल से ऊपर का एवरेज देती है।

सोयाबीन की फसल लेकिन इस बार सुवासरा विधानसभा क्षेत्र के तहसील शामगढ़ के बहुत सारे गांव में बरसात कम होने की वजह से सोयाबीन लगभग 2 से 3 क्विंटल ही एवरेज दे रही हैं जिससे किसानों के द्वारा लगाया गया खर्चा भी लागत से ज्यादा बन रहा है और अभी वर्तमान में जिन किसानों के सोयाबीन की फसल काटने का काम चल रहा है उन किसानों के सोयाबीन की खड़ी फसल और खेतों में काटी हुई फसल बरसात में भीग गई है। जिसकी वजह से किसान काफी चिंतित है किसान देश का अन्नदाता है पर किसान पर जब प्राकृतिक आपदा आती है तो कोई पूछने वाला नहीं कोई किसानो की सुध लेने वाला नही सुवासरा विधान सभा के शामगढ तहसील में फसल कटने के टाइम पर जहा एक बारिश की जरुरत थी तो बारिश नही हुई ।

जिसकी वजह से सोयाबीन की पैदावार काफी कम हुई खर्चा भी नही निकला और फसल कटने के टाइम पर बरसात हो रही है तो खेतो में पड़ी फसल ओर खड़ी फसल में काफी नुकसान हो रहा है सरकार को इसका बिना सर्वे किए ही किसाऊनो के हुए नुकसान की भरपाई करनी चाइए ताकि किसान खुशहाली से अपना गुजारा कर सके अब देखने वाली बात तो यही होगी के सरकार कब तक किसानो की इस पीढ़ा की समझती है जल्द से जल्द किसानो को मुवावजा दिया जाए।