नीमच मध्यप्रदेश

नेटवर्किंग मार्केटिंग कम्पनी की एक शिकायत के निराकरण के बाद जोधपुर व प्रतापगढ़ के युवक भी बने निशाना, नीमच पहुंच पुलिस अधीक्षक के नाम दिया आवेदन, की न्याय की मांग

कबीर मिशन समाचार।

नीमच। कुछ दिनों पूर्व में मेघना स्टोर कम्पनी में छात्र छात्राओं के साथ धोखाधड़ी कर पैसे लेकर नोकरी देने का मामला सामने आया था। और उसकी शिकायत पुलिस अधीक्षक को की गई थी। जिसके बाद कम्पनी द्वारा उक्त युवक युवतियों से लिये पैसे वापस कर दिए। पर मामला अभी भी खत्म नही हुआ। इस कंपनी का शिकार जोधपुर व प्रतापगढ़ के युवक भी बने हैं। जिन्होंने नीमच एसपी कार्यालय पहुंचकर पुलिस अधीक्षक अमित तोलानी के नाम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुंदर सिंह कनेश को आवेदन दिया और बताया कि प्रार्थीगण छात्र होकर वर्तमान में पढ़ाई करते हैं एवं नीमच में स्थित कीर्ति नगर मैं मेघना स्टोर के नाम से संचालित हो रही कंपनी जहां से प्रार्थी गण पवन पिता माणकलाल ने इंस्टाग्राम आईडी से संपर्क किया जिसके बाद हरीश शर्मा करके एक व्यक्ति का फोन आया और मुझे जॉब का ऑफर दिया और बताया कि 3200 रुपए पहले जमा करा दो फिर आपको जॉब दी जाएगी। जिसमें सैलरी फिक्स रहेगी और कहने लगा कि ऑफिस वर्क रहेगा जिसके बाद प्रार्थी पवन ऑफिस पर गया तो वहां पर बताया गया कि लड़कों और लड़कियों को जोड़ते रहो आपको प्रॉफिट मिलेगा उक्त कंपनी में हरीश गिरी द्वारा रोज नए नए लड़कों व लड़कियों को जोड़ कर उनसे प्रत्येक व्यक्ति से फाइल चार्ज के 3200 दिए गए। व प्रत्येक व्यक्ति से ₹50000 भी लिए गए हमें नौकरी का झांसा दिया गया। लेकिन हम प्रार्थीगणों को वहां पर ऐसा कोई वर्क देखने को नहीं मिला। विपक्षी गण सिर्फ पैसा लूटने की नियत से हम भोले-भाले लड़कों को अपने जाल में फंसा कर हमारे साथ धोखाधड़ी की जाती थी। उक्त कंपनी में हमें जुड़ने के लिए 50-50 हजार दिए गए। जिसका हमारे पास फोन पे पर ट्रांजैक्शन रिकॉर्ड भी है। कंपनी द्वारा लड़कियों को भी जोड़ा गया जो लड़कियां बहुत दूर-दूर से आकर कंपनी में जुड़ी व लड़कियों को उदयपुर भी ले जाया गया। जिसके बाद उदयपुर में एक ही कमरे में लड़कियां और लड़कों को रुकवाया गया। जिससे लड़कियों के चरित्र की बदनामी हुई व लड़कियां समाज व बाजार में अपना मुंह दिखाने लायक नहीं रही। कंपनी में जुड़ने के लिए भोले गिरी नामक एक व्यक्ति है। जिसके द्वारा हमारे आधार कार्ड व अन्य दस्तावेज भी लिए गए व हमारे साथ कंपनी के नियम व शर्तों पर भी हस्ताक्षर करवा लिए गए। जिसमें यह लिखा रहता है कि भविष्य में उक्त कंपनी के खिलाफ कार्यवाही नहीं कर सकते हैं। जबकि उक्त दस्तावेज कंपनी के सभी फर्जी व मनगढ़ंत बनावटी बना रखा है। कंपनी का कोई रजिस्ट्रेशन नंबर भी नहीं है ना ही कंपनी को कोई जानता और पहचानता है। मात्र फर्जी व धोखाधड़ी करने की नियत कंपनी को संचालित किया जा रहा है। जब हम प्रार्थी गणों को उक्त कंपनी के बारे में समाचार व चैनल के माध्यम से पता चला तो हमने रुपए की मांग की परंतु विपक्षी गणों द्वारा आश्वासन दिया गया कि 1 महीने में तुम्हारा रूपया अदा कर देंगे। लेकिन हमारे साथ बुरा बर्ताव कर कहने लगे कि कोई पैसे नहीं है। काम करना है तो करो नहीं तो छोड़ दो विपक्षी गण द्वारा प्रार्थी गण के साथ गाली-गलौज कर जान से मारने की धमकी देने लगे उक्त कंपनी जो कि फर्जी तरीके से संचालित हो रही है जिसमें कोई एक व्यक्ति जवाबदार नहीं है सभी व्यक्ति अलग-अलग स्थानों पर अपना अपना ऑफिस खोलकर पैसा लूटने का काम करते हैं। जिनके नाम भी इस प्रकार है भोले गोस्वामी भीलवाड़ा, पूरनगिरी केसुंदा राजस्थान, लक्ष्मण गिरि केसुन्दा राजस्थान, सोना राजपूत चित्तौड़गढ़, हरीश शर्मा प्रतापगढ़, राहुल महावर नीमच आदि व्यक्ति शामिल है जो कि हमारे साथ अलग-अलग नंबरों से बात कर हमें नौकरी का ऑफर देकर पैसा लूटा है एवं उक्त कंपनी के विपक्षी गण हमें धमकी दे रहे हैं जिससे हम प्रार्थी गण मानसिक रूप से प्रताड़ित हो चुके हैं। हमारे साथ हुई धोखाधड़ी कर रुपये लेने का हमारे पास ट्रांजैक्शन का रिकॉर्ड भी है। जिसके माध्यम से पैसे दिए गए। उसकी आवेदन के पीछे छायाप्रति भी लगाई गई है। अतः आवेदन देकर यह मांग की गई कि विपक्षी गणों के खिलाफ कार्रवाई की जाए व हमारे रुपए वापस दिलाई जाए। इस दौरान प्रार्थीगण पवन सेन प्रतापगढ़ राजस्थान, राकेश वैष्णव जोधपुर, राकेश शर्मा जोधपुर द्वारा आवेदन दिया गया।

About The Author

Related posts