आगर मालवा। आंगनवाड़ी शासकीय भवनों में ही संचालित हो – कलेक्टर श्री वानखेड़े

कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े ने समय-सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक में दिए निर्देश

कबीर मिशन – संतोष कुमार सोनगरा आगर जिला प्रतिनिधि

आगर-मालवा, 16 नवंबर। आंगनवाड़ी शासकीय भवनों में ही संचालित हो, किसी भी प्रायवेट भवनों में आंगनवाड़ी का संचालन नहीं किया जाएं, जहां आंगनवाड़ी भवन नहीं है, वहां किसी शासकीय विभाग के भवन में आंगनवाड़ी का संचालन करवाएं, यह निर्देश कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े ने बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में समयसीमा पत्रों की समीक्षा बैठक के दौरान महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी को दिए। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि स्कूल एवं आंगनबाड़ी मे पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करें, इसके लिए फील्ड वीजिट कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें कि स्कूल एवं आंगनबाड़ी मे पेयजल के लिए किस स्त्रोत का उपयोग हो रहा है।

जहां पेयजल स्त्रोत की आवश्यकता है, वह भी चिन्हित कर लें। सभी स्कूलों एवं आंगनवाड़ी में हैंडवाश यूनिट अनिवार्य रूप लगी हो तथा हाथ धुलाई का व्यापक प्रचार-प्रसार करें, स्कूली बच्चों एवं आंगनवाड़ी केन्द्रों में जागरूकता लाई जाए। स्कूल एवं आंगनवाड़ी केन्द्रों पर साफ-सफाई व्यवस्था का विशेष ध्यान रखें। कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए कि सभी विभागों के कार्यालय में भी हैण्डवॉश यूनिट लगवाएं तथा अधिकारी-कर्मचारी एवं आंगन्तुक हाथ धोकर ही कार्यालयों में प्रवेश करें। कार्यालयों में कोई भी गुटखा एवं तम्बाकू का सेवन नहीं करें, कार्यालयों एवं आसपास साफ-सफाई बनाएं रखें।

कलेक्टर ने निर्देश दिए कि सभी अधिकारी बैठकों में पेन एवं डायरी लेकर बैठें, जो भी निर्देश दिए जाएं उन्हें नोट करते हुए अमल में लाएं। आधी-अधूरी जानकारी या हवा-हवाई आंकड़ों के साथ बैठक में उपस्थित नहीं रहें, विभागीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों से संबंधी पूरी जानकारी नोट कर अपने साथ अनिवार्य रूप से लाएं, ताकि विस्तार से समीक्षा की जा सकें। उन्होंने निर्देश दिए कि जिन विभागो के कार्यालय किराये के भवन या अन्य जगह संचालित हो रहे हैं, अगर वे संयुक्त कलेक्टर कार्यालय भवन मे आना चाहते है, तो आवेदन दे सकते हैं। ऐसे विभागों जो वृद्धजन, दिव्यांग से जुड़े है, वे अपने कार्यालय के लिए ग्राउण्ड फ्लोअर में कक्ष आवंटित करवाए। झूलते हुए विद्युत तार एवं पोल को अभियान चलाकर व्यवस्थित करें कलेक्टर ने बैठक में राष्ट्रीय राजमार्ग उज्जैन से झालावाड़ चौड़ीकरण के संबंध में पीडब्ल्यूडी, आरईएस एवं एनएच के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि जिले कीं सड़क के गड्ढों का भराव करवाएं तथा साइड शोल्डर को व्यवस्थित करें, सड़क के आसपास की झाड़ियां कटवाई जाए, ताकि आवागमन में किसी प्रकार की दिक्कत ना हो, यह कार्य शीघ्र किया जाए। उन्होंने विद्युत विभाग के अधीक्षण यंत्री को निर्देश दिए कि जिले में नगरीय क्षेत्र, खेत, सड़क मार्ग सहित अन्य स्थानों पर झूलते हुए तार एवं विद्युत पोल को अभियान चलाकर व्यवस्थित करें। किसी भी स्थान पर झूलते हुए विद्युत तार नहीं रहें।

अनुकंपा नियुक्ति के लंबित प्रकरणों को एक सप्ताह में करें निराकरण कलेक्टर ने सभी विभागों को निर्देश दिए की कोविड काल एवं अन्य किसी कारण से अनुग्रह सहायता एवं अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरण लंबित हो,तो एक सप्ताह में उनका निराकरण अनिवार्य रूप से किया जाए। एक सप्ताह के उपरान्त प्रकरण लम्बित है तो कारण सहित जानकारी प्रस्तुत करें।

उन्होंने निर्देश दिए कि शासन की सभी जन कल्याणकारी योजनाएं एवं स्वरोजगार योजनाओं में शासन से प्राप्त लक्ष्य शत- प्रतिशत पूरा किया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिए कि भूमि विवाद या अन्य कारणों से विभागों के लंबित निर्माण कार्यां की सूची प्रस्तुत की जाए ताकि शीघ्र कार्य प्रारंभ करवाने की कार्यवाही की जा सकें। पंचायत विभाग, शिक्षा विभाग, आंगनवाड़ी, प्रधान मंत्री आदर्श ग्राम योजना, गौशाला, सोसाइटी के गोदाम, आजीविका मिशन आदि अन्तर्गत जो निर्माण कार्य होना है उनकी सूची प्रस्तुत की जाए।08 दिवस में आयुष्मान कार्ड का लक्ष्य पूरा करें

कलेक्टर ने आकस्मिक दुर्घटनाओं एवं आपदाओं से निपटने की तैयारियों की भी जानकारी बैठक में ली तथा एम्बुलेंस एवं अन्य संसाधनों के उपलब्धता के बारे में आवश्यक निर्देश अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने उर्वरक वितरण की समीक्षा कर कृषि, सहकारी विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि उर्वरक वितरण मे कोई भी बाधा नहीं हो, किसानों को आवश्यकता अनुसार उर्वरक की उपलब्धता सुनिश्चित करें। उन्होंने आयुष्मान भारत योजना में कार्ड बनाने की प्रगति की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि आगामी 8 दिवस में आयुष्मान कार्ड का लक्ष्य पूरा किया जाए। इसके लिए शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा स्वास्थ्य विभागों के अधिकारियों को जिम्मेदारी देकर लक्ष्य पूरा करें। इस कार्य के लिए अधिकारी-कर्मचारियों की सेक्टरवार ड्यूटी लगाई जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि जो वीएलई आयुष्मान कार्ड बनाने में लापरवाही कर रहें है, उनके विरूद्ध कार्यवाही करें।

उन्होंने आधार कार्ड शुद्धीकरण के लिए भी अभियान चलाकर कार्य करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। सीएम हेल्पलाईन पर शिकायतें लम्बित रही, तो होगी कार्यवाही कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाईन की लम्बित शिकायतों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि शिकायतों के निराकरण में गंभीरता बरतें, शिकायतें अनावश्यक रूप से पोर्टल पर लम्बित नहीं रहे। शिकायतों का निराकरण में पोर्टल पर गुणवत्ता पूर्ण कंटेंट दर्ज करें। उन्होंने अधिकारियों को हिदायत दी कि अधिक शिकायतें लम्बित रहने पर संबंधित विभाग प्रमुख के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

उन्होंने विभागवार लम्बित प्रकरणों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि विभागों में लम्बित पत्रों का बिना देरी के निराकरण करें तथा आगे से ऐसी व्यवस्था बनाएं कि शासकीय-अशासकीय पत्रों में समय-सीमा में जवाब प्रस्तुत किया जाए। जिन विभागों के न्यायालय में प्रकरण लम्बित है, उनमें चाही जाने वाली जानकारी समय पर भेजें। विभाग प्रमुख ऐसे प्रकरणों की अच्छे से समीक्षा विभाग स्तर पर भी कर लें। सशस्त्र सेना झंडा निधि में राशि जमा करवाएं।

कलेक्टर ने बैठक में घुम्मकड़, अर्द्धघुम्मकड़ व अन्य जनजातियों के बारे में आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारी से जानकारी प्राप्त कर, निर्देश दिए कि इस वर्ग के लिए शासन द्वारा संचालित योजनाओं को उन्हें प्राथमिकता से दिया जाए। उन्होंने सशस्त्र सेना झंडा निधि में राशि आगामी टीएल के पूर्व जमा करवाने के निर्देश भी सभी अधिकारियों को दिए।

जिला खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी को जिन गांवों में उचित मूल्य राशन दुकान नहीं है, वहां राशन दुकान खुलवाने के निर्देश दिए। उन्होंने सीएमओ आगर एवं शिक्षा विभाग को लाइब्रेरी स्थापित करने हेतु निर्देश जारी किए। बैठक में सीईओ जिला पंचायत डीएस रणदा, अपर कलेक्टर रवि कुमार सिंह, एसडीएम आगर राजेन्द्र सिंह रघुवंशी, एसडीएम सुसनेर सोहन कनाश सहित सभी विभाग प्रमुख उपस्थित रहे।