रबी फसल में सेटेलाईट इमेज आधारित फसल गिरदावरी की कार्यवाही पूर्ण करने के दिशा-निर्देश जारी, एमपी किसान एप में पंजीयन 21 दिसम्बर से 20 जनवरी 2023 तक होंगे

उज्जैन 12 दिसम्बर। रबी वर्ष 2022-23 हेतु फसल गिरदावरी की कार्यवाही समय-सीमा में पूर्ण की जाना है, जिससे ई-उपार्जन, फसल बीमा, फसल ऋण आदि सुसंगत कार्यवाही निरन्तर रूप से संचालित हो सके। इस सम्बन्ध में सेटेलाईट इमेज आधारित संभावित फसल की जानकारी एप में उपलब्ध कराई गई थी, जिसके सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए हैं। आयुक्त भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त विभाग के निर्देश अनुसार उक्त व्यवस्था को जारी रखते हुए रबी वर्ष 2022-23 में भी सेटेलाईट इमेज आधारित फसल गिरदावरी की कार्यवाही पूर्ण करने के लिये दिशा-निर्देश जारी किये हैं।

अपर कलेक्टर ने इस सम्बन्ध में जिले की समस्त तहसीलों के तहसीलदारों को निर्देश जारी करते हुए कहा है कि एमपी किसान एप के माध्यम से किसान फसल स्व-घोषणा की जानकारी दर्ज कर सकते हैं। इसके लिये एप में पंजीयन अनिवार्य है। उक्त कार्य हेतु प्रति ग्राम अधिक से अधिक खातेदारों का एमपी किसान एप में पंजीयन 21 दिसम्बर से 20 जनवरी 2023 तक सुनिश्चित किया जाये। अपर कलेक्टर ने सम्बन्धित पटवारियों को निर्देश दिये हैं कि सतत रूप से एमपी किसान एप में पंजीयन एवं फसल स्व-घोषणा की जानकारी दर्ज करने हेतु किसानों को प्रशिक्षित किया जाये। खेत में उपस्थित होकर फसल की जानकारी जियो फेंस तकनीक अनुसार प्री-रजिस्ट्रेशन हेतु दर्ज की जा सकती है, जिसकी समय-सीमा 21 दिसम्बर से 20 जनवरी 2023 तक नियत की गई है।

पटवारी भी समानान्तर रूप से फसल गिरदावरी उक्त तिथि तक पूर्ण करें। मौसम रबी हेतु सेटेलाईट इमेज आधारित फसल गिरदावरी की जानकारी एमपीएसडीसी द्वारा 22 जनवरी 2023 तक उपलब्ध कराई जायेगी। गिरदावरी की जानकारी सारा/एमपी किसान एप पर अवलोकन हेतु उपलब्ध होगी। 23 जनवरी 2023 को सेटेलाईट इमेज एआई से प्राप्त संभावित फसल एवं किसान/पटवारी द्वारा दर्ज फसल की जानकारी समान होने पर यह सर्वर पर सीधे अद्यतन होगी। विसंगति होने पर पटवारी को सारा एप में निराकरण हेतु उपलब्ध होगी।

विसंगतिपूर्ण जानकारी का निराकरण जियो फेंस तकनीक से स्थल का फोटो खिंचकर 26 जनवरी 2023 तक पटवारी द्वारा किया जायेगा। किसानों को गिरदावरी की जानकारी एमपी किसान एप में अवलोकन हेतु उपलब्ध होगी। असहमत होने पर आपत्ति की जानकारी खेत पर उपस्थित होकर फसल का फोटो खिंचकर 28 जनवरी 2023 तक सतत रूप से दर्ज की जा सकेगी। आपत्तियों का निराकरण 31 जनवरी तक तहसीलदार द्वारा सारा पोर्टल के माध्यम से किया जायेगा। इसी तिथि को गिरदावरी का डाटा लॉक कर दिया जायेगा, जिसके उपरान्त संशोधन मान्य नहीं होगा। गिरदावरी की नियत समय-सीमा में अधिक से अधिक किसानों की सहभागिता के साथ उक्त निर्देशों का कड़ाई से पालन कराना सुनिश्चित करें।