रामकोला के गुरूद्वारा में धूम धाम से मनायी गयी गोविन्द सिंह की जयंती।

रिपोर्टर योगेश गोविन्दराव तहसील संवाददाता कप्तानगंज कुशीनगर

गुरूवार को रामकोला नगर स्थित त्रिवेणी चीनी मिल के परिसर में स्थित गुरुद्वारे में गुरू गोविंद सिंह की जयंती पर प्रकाश पर्व धूमधाम से मनाया गया। गुरुद्वारा को आकर्षक तरीके से सजाया गया। इस दौरान गुरुद्वारा में भजन कीर्तन हुआ। वक्ताओं ने गुरु गोविंद सिंह की जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला।

रामकोला नगर के त्रिवेणी चीनी मिल कॉलोनी स्थित गुरुद्वारा सभागार में सिखों के दसवें गुरु साहिब गुरुगोविंद सिंह महराज का प्रकाश पर्व धूमधाम के साथ मनाया गया। इस दौरान श्रद्धालुओं ने लंगर का प्रसाद ग्रहण किया। रागी जत्थे ने कीर्तन संगत किया। ज्ञानी संजय सिंह ने गुरु गोविंद सिंह के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पटना साहिब की धरती पर गुरुगोविंद सिंह का जन्म हुआ था।

पिता गुरु तेग बहादुर के साथ सपरिवार आनंदपुर साहिब पंजाब में निवास किया। गुरु तेग बहादुर की जब शहीदी दिल्ली में चांदनी चौक में हुई तब बालक गुरु गोविंद सिंह नौ वर्ष के थे। युवा होने पर शस्त्र विद्या का ज्ञान व शास्त्रों का अध्ययन किया और मुगलों के अत्याचार के विरुद्ध व धर्म की रक्षा के लिए खालसा पंथ की स्थापना की।

इस दौरान चीनी मिल के प्रधान प्रबंधक यशराज सिंह, कारखाना प्रबन्धक मानवेंद्र राय, सतीश बलियान, प्रकाश झा, पंडित विश्वनाथ पांडेय, उर्मिला धारीवाल, जगदीश चावला, कमल राज मधोक, आनंद मिश्रा, संजय चावला, अंजना चड्ढा, राजेश नंदा इंद्रजीत सिंह, यशपाल सिंह ,सभासद हर्ष सूरी, नीतू सूरी, ममता कोहली, कमल कोहली, सुनील चढ्ढा, शिवम चढ्ढा, सरिता आनंद, राजेश शर्मा सहित तमाम लोग मौजूद रहे।