मूलचन्द मेधोनिया “श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान” से नवाजे गये


भोपाल ।सदैव रचनात्मक कार्यों में संलग्न होकर देश में जन्मे महापुरुषों की विचारधारा को फैलाने, रुढ़िवादी व असमानता के खिलाफ वेबाकी से रचनात्मक काम कर विशेष रूप से वंचित और उपेक्षित मजदूरों के बीच रहकर उनकी पीढा, परेशानियों को उजागर कर उनके समाधान की सोच के धनी मूलचन्द मेधोनिया मूलतः जिला नरसिंहपुर के निवासी है। जो कि संघर्ष के एक ज्वलंत उदाहरण है। ये सामाजिक उत्थान के लिए विभिन्न आयामों से कमेरा दलित, शोषित बिरादरी के जन जागरण के काम करते रहते है।

,


विगत दिनों समतावादी कलमकार साहित्य शोध संस्थान भारत के द्रारा “शिक्षा” व्यवस्था पर लेखन कार्य के लिए पूरे देश भर में बुध्दिजीवियों के माध्यम से स्वेच्छापूर्वक विधा पर लेखन कार्य तीन दिनों के लिए देश भर में चलाया गया था। जिसमें मूलचन्द मेधोनिया ने सम्पूर्ण प्रतियोगिता में भाग लिया। तथा अपने ज्ञान, विद्यात्मक अध्ययन से रचना लेखक और विशेष तौर पर आलेख शोध लिखने पर उन्हें साहित्य के क्षेत्र में देश की उत्कृष्ट समतावादी कलमकार साहित्य शोध संस्थान भारत के द्रारा मूलचन्द मेधोनिया को काव्य रचना व आलेख पत्र पर “श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान” से नवाजा गया। सर्वविदित हो की मूलचन्द मेधोनिया एक पत्रकार के साथ ही कलाकार है। जिन्हें पूर्व में “साहित्य भूषण ” मानद उपाधि प्राप्त है। तथा विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित है।

,

पुनः उन्हें सम्मानित होने पर श्रीमती प्रभा वीसे पूर्व अध्यक्ष मध्यप्रदेश अनुसूचित जाति आयोग, श्री ओ. पी. अहिरवार प्रदेश महासचिव अनुसूचित जाति जनजाति अखिल भारतीय परिसंघ भोपाल, श्री अमर सिंह जी उपनिरीक्षक सीआईडी पुलिस मुख्यालय भोपाल, श्री बलवान सिंह कुशवाहा जी प्रदेश अध्यक्ष सरपंच उपसरपंच पंच कल्याण समिति मध्यप्रदेश,श्री मुकेश अहिरवार पत्रकार एवं जिला अध्यक्ष मध्यप्रदेश असंगठित कामगार प्रकोष्ठ परिसंघ,श्री चन्दभान खेमरे सचिव मध्यप्रदेश असंगठित कामगार प्रकोष्ठ परिसंघ भोपाल, श्री ओमप्रकाश अहिरवार प्रदेश संयोजक अनुसूचित जाति कांग्रेस विभाग भोपाल, श्री शिवप्रसाद अहिरवार प्रदेश संयोजक मध्यप्रदेश अनुसूचित जाति कांग्रेस विभाग भोपाल एवं श्री महेश नंदमेहर जी राष्ट्रीय अध्यक्ष सतगुरु रविदास कल्याण फाउंडेशन भोपाल के द्रारा दलित साहित्यकार एवं सहसंपादक मूलचन्द मेधोनिया (शहीद सुपौत्र) को श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान मिलने पर बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। सभी शुभचिंतकों की हार्दिक बधाई पर मूलचन्द मेधोनिया ने ह्रदय से आभार प्रकट किया है। तथा अपेक्षा की है कि सदैव मार्गदर्शन प्रदान करते हुए हौसला बढ़ाते रहे ताकि सामाजिक जन जागरण का काम करते रहे।