राजगढ़ समाज

सारंगपुर। भजन संध्या और जुलूस के साथ नगर भ्रमण कर मनाई संत शिरोमणि रविदास जयंती

सारंगपुर। भजन संध्या और जुलूस के साथ नगर भ्रमण कर मनाई संत शिरोमणि रविदास जयंती

अहिरवार समाज संघ समिति सारंगपुर एवं सर्व रविदास समाज संघ के तत्वावधान में संत शिरोमणि रविदास जी महाराज की 647 वीं जयंती का आयोजन श्री रविदास मंदिर परिसर में किया गया। जिसमें दिनांक 23-2-20239 को रात्रि भजन मंडली द्वारा गुरू भजनों की प्रस्तुति दी गई। प्रात: दिनांक 24-2-24 सुबह कलश रविदास मन्दिर परिसर से कलश यात्रा प्रारम्भ हुई। यात्रा नदी नाका प्रेट्रोल पंप पर मालवीय समाज द्वारा भव्य स्वागत किया गया। इसके उपरान्त पुराने बस स्टेशन पर भोनसिंह पुष्पद होटल द्वारा स्वागार किया गया। नई बस स्टैंड बाबूलाल पुष्पद भेरूसिंह पुष्पद। गौरव होटल संचालक, किशोर पुष्पद आदि द्वारा फूलों से भव्य स्वागत किया गया।

परसूराम चौराहा पर सर्व ब्राह्मण समाज द्वारा पुष्प हार एवं शापी द्वारा संत शिरोमणि रविदास जी महाराज का स्वागता किया। कांग्रेस कार्यालय पर कांग्रेस के सदस्यों के द्वारा स्वागत किया एवं भाजपा कार्यालय पर नगर मंडल अध्यक्ष एवं नपा अध्यक्ष पंकस पालीवाल व पार्षद साथियों द्वारा स्वागत किया गया तथा आगे चलकर भाजपा जिला उपाध्यक्ष अक्षय सक्सेना व साथियों द्वारा स्वागत किया गया। कौशल विकास मंत्री जी के कार्यालय सामने भी भाजपा कार्यकताओं द्वारा स्वागत किया। आगे चलकर महादेव मित्र मंडल द्वारा स्वागत किया। नगर में जगह-जगह चल समारोह का भव्य स्वागत हुआ। कार्यक्रम स्थल संत शिरोमणि रविदास मंदिर प्रांगण में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर रिसर्च सेंटर द्वारा संत रविदास महाराज की तस्वीर अथितियों को भेंट कर स्वागत किया।

मंदिर प्रांगण में विशाल सभा में नगर पालिका अध्यक्ष पंकज पालीवाल, उपाध्यक्ष निलेश वर्मा, समस्त पार्षदगण, संजय विजयवर्गीय, मेहताब सिंह, बाबूलाल अहिरवार, सुनिल पुष्पद, भानू लववंशी, राकेश पुष्पद, रमेश लववंशी, दरियावसिंह अहिरवार, दिनेश अहिरवार, नारायण सिंह अहिरवार, विक्रम सिंह अहिरवार गुरु, केएल फुलेरिया पटवारी, दिनेश अहिरवार, डा. राजेश वर्मा, राजकुमार, मुकेश मालवीय, अम्बाराम जिसोदिया, मनीष जिसोदिया, रामेश्वर मालवीय पत्रकार, साईं अनिल वर्मा, जगदीश अहिरवार, जीतू फुलेरिया, नरेंद्र सोनगरा, पंकज, बने सिंह, पंडा जी, रामसिंह, रामप्रसाद वर्मा, मोहनलाल एवं सैकड़ों महिलाओं सहित आदि संत शिरोमणि रविदास महाराज के अनुयाई उपस्थित रहे।

About The Author

Related posts