जुएं का महाकुंभ कैंट थाना क्षेत्र में हो रहा संचालित, पूर्व में भी हुई थी कार्यवाही फिर भी साठगांठ के चलते एक कमरा बना चर्चा का विषय, जुआरी अपनी किस्मत आजमाने सजाते महफ़िल

कबीर मिशन समाचार।

नीमच। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय शिवराज सिंह चौहान ने अवैध जुआ सट्टा माफिया के ऊपर सख्त कार्यवाही को लेकर अपना फरमान जारी किया हैं। साथ ही जुआ सट्टे माफियाओं के निर्माण को ध्वस्त करने को लेकर भी संबंधित अधिकारियों को चेतावनी दी गई हैं। बावजूद नीमच जिले में कहीं कुछ एक अधिकारी की मिलीभगत से तो कही दर-दर भटक कर जुआ माफिया अपने अवैध क्रियाकलाप को अंजाम दे रहे हैं। सूत्रों के अनुसार कैंट थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले चौकन्ना बालाजी मंदिर के समीप कुछ जुआरियों ने अपना अड्डा बना लिया है। जिसमें जुआरी क्लब में लाखों रुपए के बड़े बड़े दाव लगाते है। साथ ही इस पूरे गिरोह को चलाने वाले जुआ माफिया प्रति घंटे के हिसाब से पैसे लेते हैं। एक पूरा रांउड घूमने के हिसाब से जिससे जुआ माफिया के शब्दों में (नाल) कहा जाता है। जुआ माफिया पुलिस की निगरानी रखने वालों को भी करीब एक-एक हजार रुपए रोजाना बांटते हैं। निचले स्तर के पुलिसकर्मियों से भी साठगांठ किये हुए हैं। जिससे वरिष्ठ ईमानदार अधिकारियों तक इस मामले की खबर नहीं पहुंच पाएं। बताया जा रहा है कि निंम्बाहड़ा, मंदसौर, चित्तौड़गढ़ से रोजाना खिलाड़ी आकर अपनी किस्मत क्लब में आजमाते हैं। जो जुएं में राजा या फकीर बन कर निकलते हैं। जुआरियों ने जुआ खेलने के लिए पत्थर की पट्टी का भी इस्तेमाल करते हैं। जो कहीं पर भी रख अपनी महफ़िल सजा सके। वहीं क्लब का फायदा और दूसरे लोग भी उठाते हैं जो हारने वालों की कीमती चीज गिरवी रख उन्हें जुआ खेलने के लिए मोटी रकम देते हैं। उसके बदले वहां उससे सौ गुना पैसा ज्यादा वसूलते हैं। बताया जाता है कि ईमानदार थाना प्रभारी ने जैसे ही कैंट थाने का पदभार ग्रहण किया था। तो दबिश देते हुए भैय्या जी नाम के जुआरी को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद पुलिस ने 151 मे मुकदमा कायम किया था।मगर उसके साथी इलियास और अन्य जाने माने जुआरी सेटिंग बाजी के चलते निचले स्तर के पुलिसकर्मी से बच निकले अब देखना यह दिलचस्प होगा कब तक ईमानदार थाना प्रभारी योगेंद्र सिंह सिसोदिया इन जुआ माफियाओं पर कार्यवाही करते हैं।