कुशीनगर। रामकोला के पूर्व विधायक पर दर्ज मुक़दमे का सच।

रिपोर्टर योगेश गोविन्दराव तहसील संवाददाता कप्तानगंज कुशीनगर

गोरखपुर के तत्कालीन सांसद एवं उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के गिरफ़्तारी के विरोध में तीन दिन तक चला था धरना

बीजेपी के पूर्व विधायक एवं जनपद के वरिष्ठ नेता मदन गोविन्द राव के खिलाफ एम.पी, एम.एल.ए कोर्ट ने अदालत में उपस्थित न होने पर वारण्ट जारी किया है,
वर्ष 2007 में गोरखपुर के तत्कालीन सांसद एवं वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तत्कालीन सपा सरकार द्वारा अनुचित गिरफ़्तारी के खिलाफ पूर्व विधायक मदन गोविन्द राव के नेतृत्व में लगातार तीन दिनों तक रामकोला चौराहे के सेनानी स्तम्भ पर शान्तिपूर्ण धरना दिया गया था तथा योगी जी को अविलम्ब रिहा करने की माँग की गयी थी।

धरने के अन्तिम दिन तहसील मजिस्ट्रेट हाटा ने ज्ञापन लेकर धरना समाप्त कराया था,तत्कालीन सरकार के दबाव में गुप-चुप तरीक़े से पूर्व विधायक समेत दर्जनों लोगों पर रास्ता जाम करने का आरोप लगाकर मुक़दमा दर्ज किया गया तथा बिना उचित एवं निष्पक्ष विवेचना के पुलिस ने सत्तापक्ष के दबाव में चुपचाप चार्जशीट भी दाखिल कर दिया था,उसी सन्दर्भ में अदालत ने गैर ज़मानती वारंट का आदेश जारी किया है,
इस सन्दर्भ में पूर्व विधायक मदन गोविन्द राव ने मोबाईल से बातचीत में कहा की न्याय प्रणाली पर मुझे सदैव भरोसा रहा है,अदालत का सम्मान करता हूँ अभी बाहर हूँ आते ही तुरंत अदालत के समक्ष उपस्थित हो जाऊँगा ।