मंदसौर मध्यप्रदेश रोजगार

मंदसौर- खबर प्रकाशित करने पर बिना किसी सूचना के पत्रकार के घर नल कनेक्शन काटने एवं धमकी देने के बाद पत्रकार संगठनों ने सौंपा कलेक्टर को ज्ञापन

मंदसौर- खबर प्रकाशित करने पर बिना किसी सूचना के पत्रकार के घर नल कनेक्शन काटने एवं धमकी देने के बाद पत्रकार संगठनों ने सौंपा कलेक्टर को ज्ञापन

नगर परिषद शामगढ़ में व्याप्त बुराइयों के विरुद्ध चलेगा पत्रकारों का महा-अभियान

मंदसौर- विगत दिनों समाचार पत्र में पत्रकार एवं समाजसेवी गोलू पठान द्वारा शामगढ़ नगर परिषद में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं नगर में व्याप्त गंदगी और अनियमितताओं की खबर छापना नगर परिषद के कारिंदों को इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने तुगलकी फरमान जारी कर पत्रकार को धमकी दे डाली और आनन-फानन में बिना कुछ सोचे समझे बिना किसी नोटिस के पत्रकार के घर का नल कनेक्शन विच्छेद करा दिया गया और घर पर बुलडोजर चलाने तक की धमकी दे डाली जैसे कि शामगढ़ नगर परिषद में मुगलकाल आ गया हो।

नगर परिषद शामगढ़ में नियम कायदे कानून ताक पर रखकर किसके आदेश पर पत्रकार के घर पर बिना किसी सूचना के गुंडे रूपी कर्मचारी पहुंचाए गए। शामगढ़ नगर में ना जाने कितने ही बिना अनुमति के नल कनेक्शन चल रहे हैं और ना जाने कितनों के टैक्स बकाया हैं नगर परिषद के जिम्मेदार बताएं कि उन्होंने कितने लोगों पर कार्रवाई की है उन्होंने टैक्स जमा नहीं कराया है। 16% कमीशन लेने वाले इमानदारी का चोला ओढ़े अपने आप को सफेद कलर बता कर राजनीति करने वाले लोगों के विरुद्ध आज मंदसौर के समस्त पत्रकार और सामाजिक संगठन एक होकर पत्रकार गोलू पठान के समर्थन में कलेक्टर कार्यालय पहुंचे

और श्रीमान कलेक्टर महोदय को नगर परिषद के विरुद्ध ज्ञापन सौंपा गया एवं खबर प्रकाशित करने के बाद द्वेषता पूर्ण कार्रवाई के विरुद्ध कलेक्टर से कार्रवाई एवं नगर परिषद की जांच की मांग की गई कार्रवाई नहीं करने पर पत्रकार संगठन द्वारा आगामी समय में शामगढ़ नगर परिषद के बाहर धरना आंदोलन की भी ज्ञापन के माध्यम से चेतावनी दी गई। एक पत्रकार का काम होता है

समाज में व्याप्त बुराइयों कुरीतियों को दूर करना सिस्टम में व्याप्त भ्रष्टाचार को खत्म करना जब पत्रकार अपना कर्तव्य का निर्वहन करता है तो ना जाने कितने भ्रष्ट लोग इसी तरह से बौखला कर ईमानदार पत्रकारों के विरुद्ध ऐसी ही कार्रवाई करते हैं इसी बात से नाराज होकर आईसना पत्रकार संगठन मध्य प्रदेश द्वारा प्रशासन को चेतावनी दी गई कि अगर निकट भविष्य में फिर से किसी पत्रकार साथी पर इस तरह का दबाव बनाया जाता है तो संगठन कलम के साथ सड़कों पर आकर आवाज उठाएगा।

About The Author

Related posts