समाज सीहोर

सत्य की ओर से निर्धन व्यक्ति का विधि-विधान से किया दाह संस्कार कराया, अब तक 100 जरूरतमंदों का किया अंतिम संस्कार।

सत्य की ओर से निर्धन व्यक्ति का विधि-विधान से किया दाह संस्कार कराया, अब तक 100 जरूरतमंदों का किया अंतिम संस्कार।

कबीर मिशन समाचार जिला सीहोर।
सिहोर से संजय सोलंकी कि रीपोर्ट 9691163969।
सीहोर। विगत आठ सालों से सत्य समिति की ओर से निर्धन, बेसहारा और असहाय व्यक्ति का दाह संस्कार कराया जा रहा है। इसी कडी में शहर के गंज में एक दिव्यांग महिला का निर्धन हो गया था। जानकारी मिलते ही पूर्ण विधि-विधान से अंतिम संस्कार किया गया। अब तक करीब 100 लोगों का अंतिम संस्कार करवाया जा चुका है। गंज निवासी महिला की सूचना मिलने पर मंडल विश्राम घाट पर इनका अंतिम संस्कार करवाया गया था। समिति के सदस्यों ने आज से आठ साल पहले असहाय निशक्त एवं निर्धन जनों के अंतिम संस्कार तथा क्रिया कर्म हेतु समिति के माध्यम से आपसी सहयोग एवं नगर के लोगों से सहयोग लेकर अंतिम संस्कार एवं अन्य कार्यक्रम कराए जाएंगा, जिससे मृत व्यक्ति की आत्मा को मुक्ति मिल सके। उस संकल्प को आज भी निरंतर करते आ रहे है। पहले आधा दर्जन संस्था में सहयोग करते थे, लेकिन अब सदस्यों की संख्या पुनित कार्य के लिए बढ़ती जा रही है।

समाजसेवी हरीश अग्रवाल ने बताया कि हमारी समिति सत्य के अध्यक्ष शंकर प्रजापति सहित अन्य सदस्य को जैसे ही निर्धन व्यक्ति के मृत होने की जानकारी मिलती है, वैसे ही संस्था के द्वारा उसके अंतिम संस्कार का इंतजाम किया जाता है। जब किसी निर्धन व्यक्ति को उसके परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु अथवा किसी लावारिस शव के अंतिम संस्कार की सामग्री जुटाने में रुपये की आवश्यकता पड़ती है, तब सत्य की ओर समिति के सक्रिय सदस्य उसके साथ खड़े दिखाई होते हैं और अंतिम संस्कार के उपयोग में आने वाली प्रत्येक सामग्री और शव ले जाने के लिए उचित व्यवस्था भी करते हैं। ऐसा ही नेक कार्य विगत् कई वर्षों से शहर की सामाजिक संस्था सत्य की ओर कर रही है। उन्होंने बताया कि अब तक 100 वें मृत व्यक्तियों का दाह संस्कार किया जा चुका है।

शहर के करीब 15 से 20 सदस्यों वाली यह समिति के अध्यक्ष श्री प्रजापति बताते हैं कि दुख की इस घड़ी में किसी भी जाति धर्म के निर्धन परिवार के लोग जब मृत शरीर का अंतिम संस्कार का खर्च उठाने में सक्षम नहीं होते हैं। तब समिति के सदस्यों द्वारा मृत शरीर के अंतिम संस्कार का सम्पूर्ण खर्च समिति द्वारा व्यय किया जाता है। सत्य की ओर नामक संस्था में शहर के कई व्यापारी और समाज सेवी जुड़े हैं जो असहाय व लावारिस शवों के अंतिम संस्कार के लिये सामग्री उपलब्ध कराते हैं। सत्य की ओर से हरीश अग्रवाल, किशोर कौशल, शैलेन्द्र चंदेल, सुनील दुबे, सुभाष शर्मा, कमलेश कटारे, गोविन्द्र ताम्रकार, डॉ. कैलाश अग्रवाल, ललित जैन, विमल जैन, श्याम सुंदर मोदी, केशव तोमर, सुदीप तोमर, ओम प्रकाश सोनगरा, देवकीनंद गोगिया, पंकज काबरा, जेपी विश्वकर्मा और डॉ. नरोलिया आदि ने सहयोग दिया।

About The Author

Related posts