इंदौर शिक्षा स्वास्थ

निधन के उपरांत उनकी देहदान का विचार किया

डॉ.जी.एस.पटेल डीन आज के इस युग में भी मानव समाज के लिये मानव की मानवता इतनी अच्छी है कि वह आने वाली पीढी के लिये एक मिशाल बन गई है, श्रीमति अर्चना कोरान्ने जो की एक शिक्षक थी जिन्होने अनेक विधार्थीयो को वर्षो तक पढ़ाया और अपने अंतिम समंय में अपनी देह दान करने का संकल्प लिया और अपने पुत्र श्री राहुल कोरान्ने को देह दान के लिय बताया ऐसे में ही पुत्र (राहुल कोरान्ने) ने अपनी माता श्रीमति अर्चना कोरान्ने आयु 85 वर्प निवासी 1007 सुदामा नगर हनुमान मंदिर रोड इन्दौर,

मध्य प्रदेश के निधन के उपरांत उनकी देहदान का विचार किया और उन्होने महिर्पि देहदान दधिचि समिती के अध्यक्ष नंदकिषौर व्यास जी से बात की। श्री नंदकिषोर व्यास जी ने तुरतं इन्डेक्स मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेन्टर के देहदान अधिकारी राज गोयल से संपर्क किया राज गोयल ने तुरंत कॉलेज प्रबंधक आर.सी यादव व एनाटामी विभाग के एच.ओ.डी. डॉ. विमल मोदी से बात कर तुरंत ही एम्बुलेंस की व्यवस्था की

और स्वयं देहदान लेने के लिये श्री राहुल कोरान्ने के घर पहुच गये और अपनी जिम्मेदारी निभाते हुऐ देहदान करवाया और उनकी मृत देह इन्डेक्स मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल रिसर्च सेन्टर के डीन डॉ.जी.एस पटेल व एनाटॉमी के एच.ओ.डी डॉ.विमल मोदी को सोपी। डॉ.जी.एस.पटेल व आर.सी यादव जी ने मृत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की और चेयरमेन श्री सुरेष सिंह भदौरिया ने मृतक के परिजनो और उनके परिवार की सरहाना की उक्त जानकारी देेहदान अधिकारी राज गोयल ने दी। डॉ.जी.एस.पटेल डीन इन्डेक्स मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेन्टर

About The Author

Related posts