भोपाल। अजाक्स का 26 फरवरी आंदोलन डबल डोज दे सकता है शिवराज सरकार को, पुराने वादे भूल गए मामा

26 फरवरी को भोपाल मे होगा फिर आंदोलन या ये कहे कि सरकार को बहुजन वर्ग का डबल डॉज

कबीर मिशन समाचार। राजकुमार 7089513598

भोपाल | प्रदेश कि राजधानी भोपाल इन दिनों सुर्खियो में है। जहां एक के बाद एक सरकार के खिलाफ मांगपत्र के साथ आंदोलन किए जा रहे है।

आपको बता दें कि 26 फरवरी को अनुसूचित जाति जनजाति अधिकारी कर्मचारी संघ अजाक्स के तत्वावधान में 26 सुत्रीय मांगों को लेकर भोपाल के दशहरा मैदान में आयोजन किया जाना है। इसका मुख्य उद्देश्य है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी को यहां याद दिलाना है पिछले 2016 के आंदोलन में जो मांग की गई थी वहां आज तक पुरी नहीं हुई। जिसको लेकर मुख्यमंत्री को याद दिलाना है। आंदोलन को लेकर बड़ी तैयारी चल रही है और यह भोपाल के दशहरा मैदान में डबल डोज लगने वाला है शिवराज सरकार को।

हाल ही में दिनांक 12 फरवरी को भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर आज़ाद ऊर्फ रावण के नेतृत्व में लगभग 5 लाख कि संख्या में आरक्षण को 9 वीं अनुसूची में डालने, जातिगत जनगणना कराने, छात्र छात्राओं कि छात्रवृतियों मे हुई कटौती के खिलाफ, ओबीसी आरक्षण 27℅ लागू करवाने, संविधान कि प्रस्तावना से छेड़छाड के खिलाफ, प्रमोशन मे आरक्षण लागू करवाने सहित अन्य 17 सुत्रीय मांगो के साथ विशाल आंदोलन किया गया था।

जन सैलाब को देखकर कांग्रेस पूर्व सीएम दिग्विजयसिंह ने भी ट्वीट कर कहा हम भीम आर्मी कि मांगो का हम समर्थन करते है। इस पर भीम आर्मी राजगढ़ के मुख्य प्रभारी राजकुमार आज़ाद ने ट्वीट करते हुए कहा यदि आप और आपकी सरकार इन मांगो के साथ है व थे तो पिछ्ले 70 साल से ये पूरी क्यूँ नहीं हुई? बहुजन वर्ग ने भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर आज़ाद के साथ अपना समर्थन जताया।

वही पुनः 26 फरवरी को भोपाल में एक आंदोलन कि चढ़ाई हो गई है। जिसमें अजाक्स कि अध्यक्षता कर रहे जेएन कंसोटिया जी के नेतृत्व दशहरा मैदान भोपाल में महासम्मेलन होगा जिसकी प्रमुख मांगे इस प्रकार है

1. शासन के अधीनस्थ विभिन्न विभागों में अनुसूचित जाति जनजाति एवं पिछड़ा वर्गों के लिए रिक्त बैकलॉग के पदों की पूर्ति की जावे

  1. अनुसूचित जाति जनजाति व पिछड़ा वर्ग छात्र छात्राओं को छात्रवृत्ति समय से प्रदान की जाए
  2. मध्य प्रदेश के लोक सेवकों के हितों के लिए पुरानी पेंशन व्यवस्था शीघ्र लागू की जावे
  3. आरक्षण के अनुसार पी एस सी पास अतिथि विद्वानों का शीघ्र नियमितीकरण किया जावे
  4. चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पद नियमित पदस्थापना के द्वारा भरा जावे
  5. निजी क्षेत्रों में आरक्षण लागू किया जावे
  6. जिन उद्योगों में शासन द्वारा सब्सिडी दी जा रही है उनमें आरक्षण अधिनियम 1994 लागू किया जावे
  7. जिला न्यायालयों में शासकीय अधिवक्ता एवं नोटरीनियुक्तियों में आरक्षण लागू किया जाए भागीदारी दी जाए सहित 26 सूत्रीय अन्य मांगो को लेकर भोपाल बी एच ई एल दशहरा मैदान भोपाल मे महासम्मेलन किया जा रहा है।