राजगढ़ रोजगार

किसान उद्यानिकी फसलों की खेती से अधिक लाभ कमाएं – कलेक्‍टर

किसान उद्यानिकी फसलों की खेती से अधिक लाभ कमाएं – कलेक्‍टर

उद्यानिकी विभाग द्वारा ओडीओपी दिवस कार्यक्रम आयोजित


राजगढ 20 सितम्‍बर , 2023
एक जिला एक उत्पाद पीएमएफएमई योजना अंतर्गत कृषि विज्ञान केन्द्र राजगढ़ में उद्यानिकी विभाग द्वारा आयोजित ओडीओपी दिवस कार्यक्रम में कलेक्टर श्री हर्ष दीक्षित द्वारा किसानों को उद्यानिकी फसलों की खेती करने, छोटे स्तर पर ग्रेडिंग करके अपना उत्पाद बनाकर मार्केटिंग करें। जिससे किसानों को अपने उत्पाद का उच्चतम मूल्य प्राप्त होगा पीएमएफएमई योजनांतर्गत स्थापित इकाईयों वाले उद्यमियों का कलेक्टर द्वारा स्वागत किया गया।

प्रसंस्करण विशेषज्ञ वैज्ञानिक डॉ. शालीनी चक्रवर्ती द्वारा फल एवं मसाला प्रसंस्करण से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी दी गई। उद्यानिकी वैज्ञानिक डॉ. लालसिंह सगर द्वारा उद्यानिकी फसलों की खेती करने एवं मसाला फसलों से उत्पाद तैयार कर अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने संबंधि जानकारी प्रदाय की गई। रिसर्च एसोसिएट डॉ. सूरज कश्यप द्वारा उद्यानिकी फसलों में मौसम के प्रभाव पर विस्तृत व्याख्यान दिया एवं मेघदूत एप की भी जानकारी दी गई।

उप संचालक कृषि श्री हरीश मालवीय द्वारा खाद्य उत्पादन इकाईयों के स्थापना से संबंधित जानकारी प्रतिभागी कृषकों को दी गई। उप संचालक उद्यानिकी श्री शैतानसिंह गरवाल द्वारा विभाग में संचालित योजना के संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुये जिले में उद्यानिकी खेती की सम्भावनाओं पर विस्तृत चर्चा की। पीएमएफएमई अंतर्गत नियुक्त जिला रिसोर्स श्री राजेश दांगी द्वारा प्रसंस्करण इकाईयों की स्थापना हेतु परियोजना प्रस्तावना प्रस्ताव तैयार करने संबंधि जानकारी पावर पाईन्ट प्रजेनटेशन के माध्यम से कार्यक्रम में उपस्थित लगभग 180 प्रतिभागीयों को दी गई। प्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र प्रतिनिधि श्री रमेश साहनी द्वारा नवीन उद्यम स्थापित करने संबंधि महत्वपूर्ण जानकारी दी।

कार्यक्रम का संचालन श्री राहुल पाटीदार प्रभारी वरिष्ठ उद्यान विस्तार अधिकारी द्वारा किया गया। कार्यक्रम में जिले के समस्त विकासखण्ड प्रभारी श्री व्ही.एस. मीणा, श्री प्रवीण पाल, श्री अजय राजपूत, श्री नरेन्द्र मीना, श्री मुकेश गौर, श्री जितेन्द्र जयसवाल उपस्थित रहें। साथ ही जिला कार्यालय का स्टॉफ भी उपस्थित रहा। कार्यक्रम के अंत में आभार प्रदर्शन श्री बी.एल. अहिरवार द्वारा किया गया एवं कार्यक्रम समाप्ती की औपचारिक घोषणा की गई।

About The Author

Related posts