आगर-मालवा मध्यप्रदेश

आगर को मैने ही जिला बनाया था, इसका विकास भी मैं ही करूंगा – मुख्यमंत्री श्री चौहानमहाकाल लोक की तर्ज पर बाबा बैजनाथ लोक का होगा भव्य निर्माण

आगर को मैने ही जिला बनाया था, इसका विकास भी मैं ही करूंगा – मुख्यमंत्री श्री चौहानमहाकाल लोक की तर्ज पर बाबा बैजनाथ लोक का होगा भव्य निर्माण


कबीर मिशन – संतोष कुमार सोनगरा जिला ब्यूरो चीफ आगर मालवा
आगर-मालवा, 02 अगस्त/मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विकास पर्व अन्तर्गत आज आगर-मालवा जिले में कुण्डालिया प्रेशराईज्ड पाईप सिंचाई प्रणाली चरण-01 सहित 1246.89 करोड़ के कार्यां का लोकार्पण तथा 59.16 करोड़ से निर्मित होने वाले निर्माण कार्यां का भूमि-पूजन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महाकाल लोक की तर्ज पर बाबा बैजनाथ लोक का भव्य निर्माण किया जाएगा, आगर-मालवा को मैने ही जिला बनाया था, इसका सम्पूर्ण विकास भी मैं ही करूंगा, जिले के विकास में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी। 
          मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री लाडली बहना सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि संत रविदास कहते थे कि “ऐसा चाहूँ राज में, जहाँ मिले सबन को अन्न, छोटे-बड़े सब सम बसें रविदास रहे प्रसन्न।“ उनकी इस शिक्षा का हमारी सरकार अक्षरशः पालन कर रही हैं। सरकार गरीबों को निःशुल्क अन्न दे रही है, सबके लिए पक्के आवास, और इलाज की व्यवस्था की गई है। प्रदेश के हर एक व्यक्ति का जीवन बेहतर बनाने के लिए प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार एक परिवार की तरह चल रही है, जिसमें परिवार के प्रत्येक सदस्य का ध्यान रखते हुए उनका कल्याण किया जा रहा है।


   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा कि लाडली बहनों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए हर महीने बहनों के खाते में एक हजार रुपए आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि आपका भैया अभी रुकने वाला नहीं है, जल्द ही बहनों के खाते में आने वाली राशि एक हजार से बढाकर धीरे-धीरे तीन हजार तक कर दी जायेगी। प्रदेश में 45 लाख से अधिक लाड़ली लक्ष्मी हैं और लगभग 1.25 करोड़ लाड़ली बहनें हैं। अब 21 वर्ष की बहनों और ट्रेक्टर वाले 5 एकड़ से कम भूमि वाले परिवार की बहनों को भी लाड़ली बहना योजना की पात्रता है। पंचायतों एवं नगरीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण के कारण आज बहनें सरकार चला रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बहनों की इज्जत और मान-सम्मान का पूरा ध्यान रखा जाता है। दारू के अहाते बंद कर दिये गये हैं। बहनों के प्रति दुराचार करने वालों को फाँसी की सजा का प्रावधान है। साथ ही दुराचारियों के घरों पर बुल्डोजर चलाये जा रहे है।
       आजीविका मिशन में बहनों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिये कार्य किये जा रहे हैं। हर बहन की मासिक आमदनी 10 हजार रूपये किये जाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि बहनों को टोल नाके भी संचालन के लिये दिये जा रहे हैं, जिनमें एक लाख रूपये आय पर बहनों को 30 हजार रूपये मिलेंगे। बहनों के सशक्तिकरण के लिये हर संभव प्रयास किया जा रहा है। पात्र बहनों को जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने हेतु सभी गांवों एवं शहरी वार्डां में लाडली बहना सेना का गठन किया गया है।
         मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूर्व सरकार ने संबल, तीर्थ-दर्शन, प्रधानमंत्री आवास योजना सहित जनकल्याण की योजनाएँ बंद कर दी थीं। जब मेरी मजदूर बहनें प्रसूति के समय नवजात बच्चों को कार्य पर साथ ले जाती थीं, तो मुझे बहुत दुख होता था। मुझे लगता था कि इन्हें भी आराम मिलना चाहिये। इसलिये सरकार ने प्रसूति सहायता योजना चालू की, जिसमें बहनों को बच्चे के जन्म से पहले 4 हजार रूपये और बाद में 12 हजार रूपये प्रदान किये जाते हैं। पुरानी सरकार द्वारा बंद की गई सभी योजनाओं को हमारी सरकार द्वारा पुनः चालू किया गया है। प्रदेश में एक वर्ष में 1 लाख पदों पर भर्ती होगी, जिसमें लगभग 60 हजार पदों पर नियुक्तियां दी जा चुकी है। युवाओं को स्वयं का रोजगार स्थापित करने हेतु मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति सहित अनेक स्व-रोजगार योजना संचालित है, जिनका लाभ लेकर युवा आगे बढ़े।
         मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के मेधावी विद्यार्थियों को लेपटॉप प्रदान किए जा रहे हैं। उन्हें उच्च शिक्षा के लिए फीस और टॉपर्स को स्कूटी भी प्रदान की जा रही है। कक्षा 6 और 9 के विद्यार्थियों को अन्य गाँव के विद्यालय जाने पर साइकिल के लिए राशि दी जा रही है। किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण और किसान सम्मान निधि योजना में प्रतिवर्ष 12 हजार रूपए की राशि दी जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बुनियादी सुविधाओं, सड़क, बिजली, पानी, सिंचाई का निरंतर विस्तार किया जा रहा है। आज प्रदेश में गुणवत्तायुक्त सड़कें, निरंतर बिजली आपूर्ति, स्वच्छ पेयजल और बड़े क्षेत्र में सिंचाई सुविधाएँ हैं। आगर-मालवा जिले के हर घर में नल से जल और हर खेत को सिंचाई का पानी दिये जाने के लिये निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं।
        मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम का शुभारम्भ कन्यापूजन कर किया तथा लाडली बहनों पर पुष्पवर्षा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा संत शिरोमणि समरसता यात्रा में साथ आए संत स्वामी शैलेशानंद गिरी, महामंडलेश्वर श्री पंचदशनाम, संस्थापिका भारत माता मंदिर आलमपुर साध्वी हेमलताजी, कृष्णानंदजी महाराज बगुलामुखी पीठाधीश उज्जैन का पुष्प माला एवं शाफ-श्रीफल से स्वागत् और सम्मान किया गया तथा मंच विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं में लाभान्वित हितग्राहियों को हितलाभ का वितरण किया गया। लाडली बहनों ने अपने लाडले भैय्या को राखी भेंट की। कार्यक्रम के दौरान बेटी-बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर नाटक का मंचन किया गया।
इन कार्यों का किया लोकार्पण एवं भूमिपूजन
         मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कुण्डालिया बाँयी तट प्रेशराईज्ड पाईप सिंचाई प्रणाली चरण-01 लागत 1200.70 करोड़, आमलीखुरा तालाब लागत  3.49 करोड़, भादवा तालाब 8.6 करोड़, बरोठीकलां बैराज लागत 8.79 करोड़, रायलती बैराज लागत 6.26 करोड़, मालनवास से खेजडी मार्ग लम्बाई 3 किलोमीटर लागत 2.86 करोड़, एसडीआरएफ योजनान्तर्गत नाला निर्माण लागत 1.03 करोड़, मुख्यमंत्री संजीवनी क्लीनिक उन्नयन कार्य लागत 29 लाख, उपस्वास्थ्य केन्द्र बाजना निर्माण कार्य 49 लाख, सुसनेर-बड़ौद से पिपलिया नानकार रोड़ लागत 9.70 करोड़, मथुरा खेड़ी से कोलूखेड़ी रोड़ लागत 1.37 करोड़, इन्दौर-कोटा रोड़ से सेमलखेड़ी पुल लागत 1.25 करोड़, आगर-सारंगपुर रोड़ से देहरीपाल गोन्दलमऊ 1925 मीटर लागत 1.10 करोड़, धान्याखेड़ी से सुरजनी रोड़ लागत 86 लाख, बुडाडुंगर से भवानीपुर रोड़ लागत 64 लाख के निर्माण कार्यां का लोकार्पण किया। इसके साथ ही बाबा बैजनाथ मंदिर के समीप सामुदायिक एवं जनउपयोगी सुविधाओं का विकास लागत 18.90 करोड़, अमृत 2.0 योजनान्तर्गत समस्त वार्डां में निर्माण कार्य लागत 11.30 करोड़, अमृत 2.0 योजनान्तर्गत मोतीसागर तालाब का उन्नयन कार्य लागत 95 लाख, स्लैपकन्वर्ट निर्माण कार्य भीमाखेड़ी मार्ग पर ग्राम पिपल्याजफर तहसील बड़ौद लागत 1.73 करोड़, स्टापडेम ग्राम खेरिया लागत 1.97 करोड़, बीटी रोड़ बजाना से बजाना का खेड़ा 1.60 करोड़, स्टापडेम ग्राम आंकडी नाला ग्राम वराह लागत  1.98 करोड़, स्टापडेम ग्राम बिनायगा आगर लागत 1.51करोड़, तालाब निर्माण लाहोरिया नाला देवली बड़ौद  1.54 करोड़, स्नैपकन्वर्ट निर्माण कार्य सारसी से उमरिया ग्राम उमरिया लागत 95 लाख, स्लैपकन्वर्ट निर्माण कार्य ग्राम पांचारूण्डी लागत 1.24 करोड़, इन्दौर-कोटा मार्ग से लोलकी व्हाया बडिया का खेड़ा मार्ग 3.51 करोड़, कोहडिया से रिण्डोली मार्ग लागत 2.37 करोड़, बड़ागांव से कुण्डला मार्ग निर्माण लागत  3.71 करोड़, ग्राम जामुनिया बड़ौद में नवीन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन लागत 2.95 करोड़, ग्राम मोड़ी में नवीन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं आवास गृह निर्माण 2.95 करोड़ के निर्माण कार्यां का भूमि-पूजन किया गया
       इस अवसर पर जल संसाधन, मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास विभाग मंत्री श्री तुलसी सिलावट, जिला खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार विभाग मंत्री एवं जिला प्रभारी मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, विधायक विक्रम सिंह राणा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मुन्नाबाई चौहान, पूर्व विधायक श्री गोपाल परमार, श्री लालजीराम मालवीय, श्रीमती रेखा रत्नाकर, श्री बद्रीलाल सोनी, श्री मुरलीधर पाटीदार, जिलाध्यक्ष श्री चिंतामण राठौर,सांसद प्रतिनिधि भेरूसिंह चौहान, ओम मालवीय, मधु गेहलोत, प्रेम यादव, आभा चौपड़ा, बंटी ऊंटवाल, सुरेश बैरागी, मंयक राजपूत, कैलाश कुम्भकार, अजय जैन सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं कमिश्नर राजस्व संभाग उज्जैन डॉ. संजय गोयल, आईजी उज्जैन श्री संतोष कुमार सिंह, कलेक्टर श्री राघवेन्द्र सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री संतोष कौरी, जिला पंचायत सीईओ श्रीमती हरसिमरनप्रीत कौर सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन रीना रायकवार एवं एमपी एग्रो प्रबंधक ओपी विजयवर्गीय ने किया।
जनसेवा मित्र एवं जनअभियान परिषद् के सदस्यों से किया संवाद
  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने लाडली बहना सम्मेलन उपरान्त जनसेवा मित्र एवं जनअभियान परिषद् के सदस्यों से संवाद किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जनसेवा मित्र एवं जनअभियान परिषद के सदस्यों से शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुँचाने एवं सभी पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित करवाने का आव्हान् किया।

About The Author

Related posts