पचोर। प्रजापिता ब्रह्मा बाबा के अव्यक्तारोहण को विश्व शांति दिवस के उपलक्ष में मीडिया कर्मियों का स्नेह मिलन कार्यक्रम ब्रह्मा कुमारीज सेवा केंद्र पर मनाया गया।


कबीर मिशन समाचार
पचोर/राजगढ़
संवाददाता
विष्णु भिलाला

पचोर। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के द्वारा संस्थापक ब्रह्मा बाबा के पुण्यस्मरण को विश्व शांति दिवस के उपलक्ष में मीडिया कर्मियों का स्नेह मिलन कार्यक्रम रखा गया ।जिसमें पुरुषोत्तम वैष्णव वरिष्ठ पत्रकार , विकास करोड़िया नप अध्यक्ष रामभरोसा यादव नप उपाध्यक्ष एवं ब्रह्माकुमारी वैशाली दीदी मंचासीन हुए।

कार्यक्रम में राजगढ़ जिले के मीडियाकर्मी सम्मिलित हुए जिसमें शैलेंद्र शर्मा ,दिलीप कुशवाह, मोहन सेन ,राधेश्याम नागर, संजय राठौर ,संतोष अग्रवाल, सूरज सिंह राजपूत ,अजय साहू, हरीश मुन्देरिया, एवं नगर के गणमान्य नागरिक सम्मिलित हुए, दीप प्रज्वलन एवं अतिथियों के स्वागत के साथ समस्त मीडिया कर्मियों का स्वागत सम्मान भी किया गया।

ब्रह्माकुमारी सीमा दीदी ने संस्थापक ब्रह्मा बाबा के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वहां एक शांति दूत बनकर इस संसार में आए उन्होंने अपना सर्वस्व जीवन मानव कल्याण एवं ईश्वरीय मार्ग पर चलकर पूरा जीवन नारियों के उत्थान एवं संसार के समस्त प्राणियों में आध्यात्मिकता का संचार करने का कार्य किया। ब्रह्मा बाबा का आज 54 वा अव्यक्तारोहण दिवस को विश्व शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है।

संस्था के द्वारा मीडिया कर्मियों का स्नेह मिलन कार्यक्रम रखा गया है जिसमें मीडिया कर्मी अपनी कलम की ताकत से स्वर्णिम भारत का निर्माण कर सकते हैं ,संसार को नई दिशा दे सकते हैं, लेकिन उसके लिए सकारात्मक ऊर्जा का होना बहुत जरूरी है, और यह ऊर्जा आध्यात्मिकता के बिना असंभव है।

विकास करोड़िया ने ब्रह्माकुमारी सेवा केंद्र पर होने वाले कार्यक्रम की सराहना की।
रामभरोसा यादव ने ब्रह्माकुमारी सेवाकेंद्र एकमात्र शांति प्राप्त करने का स्थान बताया।
पुरुषोत्तम वैष्णव ने कहा कि ब्रह्माकुमारी बहने हमेशा विश्व के प्रति कल्याण की भावना एवं समाज के उत्थान के कार्य हेतु अनेकानेक कार्यक्रम करती रहती है । जो कि हमें कुछ न कुछ संदेश इनसे अवश्य मिलता है।

सभी पत्रकारों ने अपनी शुभकामनाएं संस्थान के प्रति व्यक्त की।
कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारी वैशाली दीदी ने मन को सही दिशा देने की बात कही है और उसके लिए शुद्ध अन्न से ही शुद्ध मन होगा हमारा अन्य शुद्ध होगा तो हम मन पर विजय प्राप्त कर सकते हैं, सकारात्मक चिंतन में अन्न का शुद्ध होना बहुत जरूरी है ,एक ईश्वर की याद में बनाया गया भोजन और उनकी याद में भोजन गृहण करना ही ब्रह्माभोजन कहलाता है । उन्होंने मेडिटेशन पर फोकस दिया सभी को 10 मिनट मेडिटेशन कराकर शांति का अनुभव कराया।
आभार दुर्गेश भाई ने माना एवं मंच का सफल संचालन गिरिराज पाटीदार ने किया।
कार्यक्रम की समाप्ति के पश्चात ब्रह्माभोजन का आयोजन किया गया।