शाजापुर। ग्राम खेडावाद में हुई हत्या के विरोध में भीम आर्मी सहित हिंदूवादी संगठन उतरे मैदान में।

अपराधी के मकान पर चला बुलडोजर।
आरोपी को किया गिरफ्तार, अंतिम संस्कार के लिए दिए कलेक्टर ने दिए 25000 रुपए।

शाजापुर मध्यप्रदेश। कबीर मिशन समाचार

शाजापुर। सलसलाई थाना क्षेत्र के ग्राम खेड़ावद में बीती रात पैसे के लेनदेन को लेकर दलित युवक संजय मालवीय पिता महेश मालवीय की हत्या अमन मंसूरी पिता रईस मंसूरी सहित 4-5 लोगों ने योजनाबद्ध तरीके से कर दी। घटना का वीडियो सामने आने के बाद रात से हि भीम आर्मी, एवं सर्व सामाजिक संगठनो द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से सभी को सूचित करने का काम किया गया ।

और रात को हि टी. आई. व एस.पी. से सभी ने बात कि तथा सुबह होते हि, खेड़ावद मे पहुंचे भीम आर्मी के साथ हिंदू परिषद, बजरंग दल, आरएसएस, अखिल भारतीय बलाई संघ एवं अन्य संघठन के सैकड़ों कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौके पर पहुंचकर पीड़ित परिवार से मिले। हत्या के मामले को लेकर सभी काफी आक्रोशित थे, शव गांव में पहुंचने के बाद आरोपी पर कार्यवाही की मांग को लेकर भारी प्रदर्शन किया। जिसके बाद प्रशासन ने अपराधी के मकान पर बुलडोजर चलाकर तोड़ दिया और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाकी अज्ञात लोगों पर अपराध कायम कर गिरफ्त मे लेने का बोला गया।

जिला क्लेक्टर कि और से अंतिम संस्कार के लिए तुरंत 25 हजार रुपए का चेक प्रशाशन द्वारा दिया गया। साथ हि संवेधानिक लाभ मृतक आश्रित परिवार को 800000 आठ लाख रुपए, तथा संभल योजना के 400000 चार लाख रुपए कि राहत के साथ भीम आर्मी ने सरकार से अन्य मांग भी कि जिसमें
1) परिवार मे एक सदस्य को सरकारी नौकरी मिले
2) कोई वंश न होने के कारण परिवार को 5 बीघा जमीन का पट्टा मिले
3) परिवार को जगह और पीएम आवास तुरंत उपलब्ध कराए
4) 50 लाख कि राहत राशि प्रदान करें।
5) माता पिता को 5000-5000 हजार रुपए मासिक पेंशन चालू करें।

उक्त मांगो के साथ भीम आर्मी भारत एकता मिशन ने प्रशासन से बातचीत कर उनको ज्ञापन दिया ।


जब अंतिम संस्कार कि ओर रवाना हो रहे थे तब बलाई महासंघ के राष्टीय अध्यक्ष मनोज परमार का इन्तजार होने लगा, वहां उपस्थित कई लोगों कि बातचीत सूनी जिससे पता चला कि परमार जी के लेट होने पर लोग उनसे काफी नाराज दिखाई दे रहे थे, जब सब कुछ हो गया तब आकर क्या करेंगे ऐसी वार्तालाप भी सूनी गई। कई देर तक इंतजार करने के बाद परमार जी पहुंचे, जिनके साथ सभी संघठन के लोग अंतिम संस्कार मे शामिल हुए, भीम आर्मी ने अपनी बात रखते हुए सबको अवगत कराया कि अपराधी कि कोई जात कोई धर्म नहीं होता, यदि अपराधी कि जात धर्म देख कर काम करेंगे तो हमारे साथ ऐसा हि होता रहेगा,

जिस प्रकार आज आप सभी उपस्थित हुए ऐसे हि सभी मामलो मे अपनी एकता दिखाए और अपराधी को सजा दिलाने का काम करें, भीम आर्मी ने कहा कि क्या आपको केवल मुसलिम समुदाय के मारने पर दर्द होता है। इस भावन को खत्म करें और जो भी अपराधी हो चाहे हिन्दू हो अपराध अपराध होता है सभी एक साथ खड़े हो।
इस बात पर सभी ने सहमति जताई और एक साथ कार्य करने कि बात कही। वही परमार ने भी जातिवाद पर तीखी टिप्पणी कर साथ दिया और उसके साथ जातिवाद खत्म कर भाईचारा व हिंदुत्व को बढ़ाने कि बात कहीं।


जिसमें मुख्य रूप से भीम आर्मी वर्तमान प्रभारी दीपक वाल्मीकि, भीम आर्मी मुख्य प्रभारी राजकुमार आज़ाद, सारंगपुर पूर्व तहसील अध्यक्ष मुकेश मालवीय, रामसिंह मालवीय राजकुमार वर्मा, बलराम वर्मा, रामेश्वर मालवीय, अर्पित राज अंबेडकर, शाजापुर महासचिव राहुल अम्बेडकर, नरसिंहगढ़ तहसील अध्यक्ष डॉ गोपाल वर्मा, राधेश्याम मालवीय, एवं भीम आर्मी के सैकड़ो साथी, बलाई महासंघ शाजापुर ज़िला अध्यक्ष रोडमल मालवीय, इकलेरा मनोज मालवीय, बलाई महासंघ राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज परमार, हिन्दू जागरण मंच ज़िला संयोजक अनूप किरकिरे, मौलाना खंड आयोजक वीरेंद्र पाटीदार, सरपंच ईश्वर पाटीदार, सतीश बेस, राधेश्याम मालविया शाजापुर, शांतिलाल मालवीय, राजेश बंसल, एवं सैकड़ो कि संख्या मे समाज जन उपस्थित रहे।