विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 8462072516
September 25, 2022

इंदौर। बागरी युवा शक्ति संगठन मप्र विधानसभा चुनाव को लेकर मुख्यमंत्री को लिखा पत्र।

कबीर मिशन समाचार। इंदौर मध्यप्रदेश

इंदौर। बागरी युवा शक्ति संगठन के अध्यक्ष कपिलसिंह सोलंकी ने बताया कि समर्थक बागरी युवाओं को विधानसभा चुनाव में विजय प्राप्ति होगी। सोलंकी ने यह भी कहा हम मध्य प्रदेश के 50 लाख युवाओं का स्वतंत्र नेतृत्व खड़ा कर उनकी आवाज विधानसभा और लोकसभा में पहुंचाना चाहते हैं। बागरी युवा शक्ति एक सामाजिक संगठन है। हमारे प्रदेश में परंपरागत परिवारवाद की राजनीति चली आ रही है। उसमें पढे़-लिखे नए युवाओं को विधानसभा और लोकसभा में मौका मिलना चाहिए। बागरी युवा शक्ति राजनैतिक दल के तौर पर पंजीकृत संगठन नहीं हैं।

लेकिन विधानसभा में बागरी समाज(अनुसूचित जाति) की आवाज उठाने वाले युवाओं का बागरी युवा शक्ति समर्थन करेगा। कांग्रेस, बीजेपी या दूसरे किसी दल से चुनाव लडे़गें या स्वतंत्र लडेंगे।

ये 2023 में तय करेंगे। लेकिन बागरी युवा शक्ति स्वतंत्र बागरी जाति का नेतृत्व चाहता है। हम ऐसा नेतृत्व चाहते हैं जो राजनैतिक दलों और नेताओं की कठपुतली न बने। बागरी की आवाज विधानसभा में दमदारी से उठाए। हमें बागरी जाति को हक और अधिकार देने के लिए पूरे 20 विधायक चाहिए। जिन सीटों पर 50 हजार से एक लाख बागरी वोटर्स हैं उन सीटों पर भी बागरी विधायक जिताएंगे।

हमारे पीछे दौडेंगे राजनैतिक दल। कपिलसिंह सोलंकी बागरी युवा शक्ति संगठन स्वतंत्र नेतृत्व की बात कर रहा है। अगले साल चुनाव के समय हमारा संगठन तय करेगा कि हम किसी पार्टी के आगे पीछे जाएंगे या पार्टियां हमारे पीछे आएंगी। कपिलसिंह सोलंकी ने कहा बागरी युवा शक्ति 2023 के विधानसभा चुनाव के बाद 2024 में लोकसभा का चुनाव भी लडे़गी।

मिशन युवा नेतृत्व 2023 ( एक कदम सामाजिक बदलाव की ओर)आज बागरी जाति को सरकार की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। बागरी युवा शक्ति की लड़ाई किसी जाति धर्म के खिलाफ नहीं है। हम सिर्फ अपनी पहचान और विकास की मुख्यधारा से जोड़ने की लड़ाई लड़ रहे हैं। बागरी जाति के क्षेत्रों के स्कूल जर्जर हालत में हैं। हमारी समाज अजादी के 75 साल बाद भी आजाद नही हो पाई है।

प्रश्नचिन्ह हम सबके सामने है बागरी समाज क्या वोट बैंक के लिए इस्तेमाल किया जाता है?क्या बागरी समाज आजादी के 75 साल बाद भी विशेषकर ग्रामीण अंचलों में बागरी समाज सही मायने में आजाद हो पाई है?

प्रदेश में बावरी समाज की बड़ी आबादी होने से 230 विधानसभा में से 40 सीटों पर हमारी समाज पर प्रभाव है। नगर निकाय, पंचायत, जनपद पंचायत, जिला पंचायत, चुनाव में बागरी समाज की जीत हुई है। महोदय आगामी विधानसभा चुनाव 2023 में बावरी युवाओं को विधानसभा चुनाव उम्मीदवारों को अनुसूचित जाति आरक्षित सीटों और समाज के प्रभाव वाली सीटों पर टिकट की पुष्टि करें।