अनुसूचित जनजाति विभाग की योजनाओं से साकार होंगे रिन्दा के सपने

सीहोर :व्यक्ति और समाज के सामाजिक और आर्थिक सुदृढ़ीकरण के लिए अच्छी शिक्षा बहुत आवश्यक है। प्रदेश में अनुसूचित जनजाति वर्ग की बड़ी आबादी निवास करती है। अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्र-छात्राओं की छुपी प्रतिभाओं को निखारने तथा उनके शैक्षणिक विकास के लिए राज्य सरकार द्वारा अनेक योजनाएं चलाई जा रही है।

शिक्षा के क्षेत्र में अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिए संचालित अनेक योजनाओं का लाभ पाने वाले छात्रो में कुमारी रिन्दा बारेला भी है। रिन्दा सीहोर के शासकीय जनजातीय संयुक्त कन्या छात्रावास में रहकर अपनी पढ़ाई कर रही है।वह शासकीय मॉडल स्कूल में कक्षा 10 वीं की छात्रा है। बिन्दा ग्राम बामलदड़ की रहने वाली है। वह भविष्य में डॉक्टर बनना चाहती है। उन्होंने बताया कि उन्हें अपनी शिक्षा को गांव पर ही रहकर प्राप्त करना कठिन था।

अपने डॉक्टर बनने के सपने को पूरा करने के लिए रिन्दा बेहतर शिक्षा प्राप्त करना चाहती है। रिन्दा ने बताया कि उसके इस सपने को पूरा करने की दिशा में अनुसूचित जनजाति विभाग की योजनाएं मददगार साबित हो रही है। उसने कहा कि मुझे जो शिक्षा प्राप्त करने का अवसर और सुविधा मिली है, इससे मैं अपने सपना पूरा करूँगी। रिन्दा ने बताया कि कन्या छात्रावास में भी उन्हें घर जैसा ही माहौल मिल रहा है। रिन्दा बताती है कि छात्रावास में प्रतिदिन साफ-सफाई, स्वादिष्ट खाना, पढ़ाई के लिए शांत वातावरण के साथ ही सभी आवश्यक सुविधाएं मिल रही है। अच्छी शिक्षा के साथ ही रहने के लिए भी बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए रिन्दा ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को धन्यवाद किया है।