भोपाल राजनीति

कमलनाथ ने संजीव सक्सेना समर्थकों से कहा जिताऊ कैंडिडेट को देंगे टिकट

कमलनाथ ने संजीव सक्सेना समर्थकों से कहा जिताऊ कैंडिडेट को देंगे टिकट

कमलनाथ जी से मिले इंजीनियर संजीव सक्सेना के समर्थक

मूलचंद मेधोनिया पत्रकार भोपाल

भोपाल : दक्षिण पश्चिम विधानसभा क्षेत्र की स्वयंसेवी संस्था मातृभूमि संगठन के दक्षिण पश्चिम विधानसभा क्षेत्र स्थित  233 बूथ पर गठित  30  महिलाओं  की “महिला शक्ति” के 6990 महिला सदस्य एवं “एक बूथ 30 यूथ” के “युवा विंग” के  5 हज़ार सदस्य रविवार सुबह 10 बजे प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ जी के निवास पहुंचकर इंजीनियर संजीव सक्सेना के समर्थन में पत्र देकर कमलनाथ जी के बंगले से श्यामला हिल्स स्थित टैगोर हॉस्टल तक पैदल मार्च किया ।

पत्र संगठन की ओर से संगठन अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह  पटेल तथा भोपाल चैप्टर की  अध्यक्षा श्रेया अग्निहोत्री ने सौंपा। भोपाल चैप्टर की अध्यक्षा श्रेया अग्निहोत्री  ने बताया कि इस विधानसभा क्षेत्र में लगभग 24 हजार परिवार उनके संगठन के सदस्य है. यदि श्री सक्सेना को इस क्षेत्र से चुनाव लड़ते हैं तो उनकी पूरी टीम प्रचार से लेकर सभी बूथों पर अपने सभी सदस्यों को तैनात कर बड़े बहुमत से उनकी जीत को सुनिश्चित करेगी  ।

 श्री कमलनाथ ने प्रतिनिधि मंडल से कहा कि वे इस मांग पर विचार करेंगे क्योंकि पार्टी भी जिताऊ कैंडिडेट को टिकट देना चाहती है।उन्होंने प्रतिनिधि मंडल द्वारा इंजीनियर संजीव सक्सेना द्वारा इस विधानसभा क्षेत्र की जनता के लिए किये जा रहे सामाजिक व आर्थिक प्रयासों एवम कार्यों की एक लंबी सूची को ध्यान से सुना व किये जा रहे कार्यों पर संतोष व्यक्त किया।संगठन अध्यक्ष भूपेंद्र पटेल ने बताया  कि श्री संजीव एक पढ़े लिखे, गंभीर व जुझारू व्यक्तित्व के धनी हैं.

इस मुलाक़ात के दौरान वे क्षेत्र की प्रमुख समस्याओं जैसे रोजगार, क्षेत्र में प्राइवेट से ज्यादा सुविधायुक्त सरकारी अस्पतालों का निर्माण, महिलाओं के लिए स्वरोजगार की व्यवस्था, उत्कृष्ट शिक्षा देने वाले सरकारी स्कूलों को आरम्भ किया जाना तथा युवाओं को नशे से बचाना आदि से भी अवगत करायाउल्लेखनीय है कि मातृभूमि सेवा संगठन ने विगत दिनों इंजीनियर संजीव सक्सेना के समर्थन में ‘एक बूथ, 30 यूथ’ नामक मार्च निकाला था जिसमें इस विधानसभा क्षेत्र के 10 हजार से अधिक युवा शामिल हुए थे. साथ ही संगठन ने महिला सम्मेलन भी आयोजित किया था जिसमे 30 हजार से अधिक महिलाएं शामिल हुई थीं. जिन्होंने एक स्वर में इंजीनियर संजीव सक्सेना को अपने नेतृत्व के लिए चुना ।

About The Author

Related posts